जासं, अंबाला शहर : वध के लिए कैंटर में लदे 7 बैलों को गोरक्षा दल व पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में मुक्त कराया गया। ये पशु पंजाब से उप्र ले जा रहे थे। सुलतानपुर चौक पर नाकाबंदी की वाहन की तलाशी ली गई। चौकी पुलिस की शिकायत पर बलदेवनगर थाने में पशु क्रूरता अधिनियम का केस दर्ज किया गया। आरोपितों की पहचान उप्र के टांडा वासी जुल्फेकार इरफान व नगीना वासी मोहम्मद नौशाद के तौर पर हुई। आरोपितों को बृहस्पतिवार कोर्ट में पेश किया गया। सभी को जमानत पर छोड़ दिया गया।

गोरक्षा दल के सदस्य कुलवंत के बयानों पर कार्रवाई की गई। केस के अनुसार गोरक्षा दल को सूचना मिली थी कि पंजाब से कैंटर में पशु लोड किए गए हैं। इन्हें वध के लिए उप्र भेजा जा रहा है। पुलिस के साथ मिलकर चे¨कग अभियान चलाया गया। उसी दौरान आते दिखे कैंटर को रोककर तलाशी ली गई। बैल मराणावस्था में थे। उनके लिए पानी और चारे तक की व्यवस्था नहीं की गई थी। बलदेवनगर चौकी इंचार्ज एएसआइ धर्मबीर के अनुसार पशु क्रूरता अधिनियम के केस में आरोपितों को पुलिस जमानत पर छोड़ दिया गया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस