जागरण संवाददाता, अंबाला शहर : शहर के इंको चौक के पास दो रास्ते के बीच बह रहे नाले पर पुलिया बनाने पर विवाद हो गया। इसके विरोध में सेक्टर नौ के लोग पहुंच गए। उन्होंने कहा कि कंपनी संचालक अपने फायदे के लिए एक सड़क को कवर कर दूसरी सड़क तक पहुंचने के लिए नाले पर पुलिया बना रहा है, जबकि कंपनी संचालक का कहना था कि उसने नगर निगम से अनुमति ले रखी है। बाद में काम रुकवा दिया गया।

शहर के इंको चौक से सेक्टर नौ की रोड पर एक कंपनी नाले पर पुलिया बना रही थी। हालांकि कंपनी के साथ ही सरकारी रास्ता बना हुआ है, लेकिन इसके बाद नाला और उसके बाद मुख्य सड़क है। कंपनी ने मुख्य सड़क तक पहुंचने के लिए नाले का कवर करना शुरू कर दिया। यह होता देख सेक्टर नौ एसोसिएशन के पदाधिकारियों समेत अन्य लोग पहुंच गये। उन्होंने कंपनी मनमानी का विरोध किया। लोगों का विरोध होता देख विधायक के सचिव रितेश गोयल भी पहुंच गए। उन्होंने दोनों पक्षों को सुनने के बाद सोमवार तक काम बंद करने को कहा, ताकि सोमवार को नगर निगम समेत अन्य कार्यालयों में कंफर्म किया जा सके कि अनुमति ली गई है या नहीं, लेकिन कंपनी के एमडी प्रदीप जैन उन्हें कहने लगे कि उन्हें लिखकर दें कि काम बंद करना है। इस पर वह उखड़ गए कि उन्होंने कहा कि इस तरह विवाद खत्म नहीं होता।

---

फोटो - 31

-दोनों सड़कों के बीच सरकारी जमीन है, अगर नगर निगम ने अनुमति दी है, तो देखा जाएगा किस आधार पर अनुमति दे दी गई। यदि कंपनी मनमानी करेगी तो इसका विरोध होगा और धरना दिया जाएगा।

प्रदूमण सचदेवा, पूर्व प्रधान सेक्टर नौ एसोसिएशन

---

फोटो - 32

इंको चौक पर पहले एक शो रूम के कारण सेक्टरवासी परेशान हैं। स्टोर संचालकों ने सरकारी रास्ते पर अतिक्रमण कर रखा है। अब इसे बढ़ाते हुए मुख्य सड़क कब्जाने का खेल चल रहा है।

चमन अग्रवाल, पूर्व सेक्रेटरी

----

फोटो - 33

मुकेश एबट ने बताया कि इस प्रॉपर्टी का रास्ता मुख्य सड़क से नहीं है। अपनी प्रॉपर्टी के लिए सेक्टर के लोगों के सामने दिक्कत खड़ी करना चाहते हैं। एक शोरूम के कारण ही रोज शाम को जाम लग जाता है। यदि नाले पर पुलिया बन गई तो सेक्टर के लोगों का तो रास्ता ही बंद हो जाएगा।

-------

इस ड्रेन में बलदेव नगर का पानी आता है। अगर पानी यहां रुक जाएगा तो पीछे लोगों के घरों में पानी घुस जाएगा। पुलिया बनानी भी है तो पूरा प्लान बने, सभी अधिकारियों की मौजूदगी में नक्शा पास हो। जिसमें अकेले नगर निगम नहीं, बल्कि पब्लिक हेल्थ, इंजीनियरिग ब्रांच, वाटर सर्विस कमिशन, इंजीनियरिग ब्रांच मिलकर बनाए। यदि अब काम रोकने पर भी काम किया जाता हैं, तो एक्शन लिया जाएगा।

रितेश गोयल।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस