अहमदाबाद, जेएनएन। सोशल मीडिया पर अफवाह व मॉब लिंचिंग (भीड़ की हिंसा) जैसी घटनाओं पर रोक के लिए गुजरात सरकार पुलिस व वाहनों को आधुनिक व साइबर सुरक्षा प्रदान करेगी। पुलिस के वाहनों में जीपीएस लगाकर रियल टाइम मॉनिटरिंग की जाएगी। साथ ही, सभी पुलिस थानों पर सीसीटीवी लगाने के साथ चार साइबर पुलिस थानों का भी निर्माण किया जाएगा।

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी की अध्यक्षता में गांधीनगर में गुजरात में बढ़ते अपराध पर हुई एक उच्चस्तरीय बैठक हुई। इसमें रूपाणी ने अधिकारियों से कहा कि अधिकारियों को पुलिस के जवानों को मनोबल बढ़ाना चाहिए। पुलिस अपना काम ईमानदारी व दृढ़ता के साथ पूरा कर सरकार उनके साथ खडी है। रूपाणी ने स्पष्ट संकेत दिए कि पुलिस को किसी अपराधी व माफिया से डरने की जरूरत नहीं है। राज्य में कानून व्यवस्था को बहाल रखने के लिए पुलिस आधुनिक साधनों व आईटी सुविधा की मदद ले। अफवाहों व मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर रोक के लिए रूपाणी ने पुलिस को खास अलर्ट रहने को कहा।

गृह राज्यमंत्री प्रदीप सिंह जाडेजा ने कहा कि राज्य में चार साइबर पुलिस थाने बनाए जाएंगे। साथ ही, सभी पुलिस थानों में सीसीटीवी लगाई जाएंगी। गश्ती मोटरकार व कैदी वैन की मॉनिटरिंग के लिए जीपीएस सिस्टम लगाया जाएगा, ताकि उन पर भी लगातार नजर रखी जा सके। जाडेजा ने बताया कि राज्य में अपराध की दर को घटाने के लिए सरकार 300 करोड़ रुपये से पुलिस को आधुनिक बनाएगी।  

Posted By: Sachin Mishra