अहमदाबाद, एएनआइ। कांग्रेस नेता राहुल गांधी को मानहानि के मामले में शुक्रवार को गुजरात की एक अदालत में जमानत मिल गई है। सात दिसंबर को इस मामले में अगली सुनवाई होगी। कोर्ट में सुनवाई के बाद अहमदाबाद के एक रेस्तरां में राहुल गांधी और हार्दिक पटेल एक साथ दिखे।

जानें, क्या है मामला

गौरतलब है कि गत लोकसभा चुनाव के दौरान मध्य प्रदेश की चुनावी रैली में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को हत्यारा कहने के बाद उन पर मानहानि का मुकदमा किया गया था। राहुल के आने से पहले एसपीजी व गुजरात पुलिस ने हवाई अड्डे से मेट्रो कोर्ट तक सुरक्षा का जायजा लिया। कांग्रेस नेता व सांसद अहमद पटेल ने भाजपा पर आरोप लगाया है कि सत्ता में आने के बाद भाजपा अपने राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ प्रतिशोध की भावना से काम कर रही है। 

राहुल गांधी ने मानहानि मामले में खुद को निर्दोष बताया

लोकसभा चुनाव के दौरान रैली में 'सभी मोदी चोर हैं' कहने को लेकर सूरत में दायर मानहानि मामले में कांग्रेस नेता राहुल गांधी कोर्ट में पेश हुए। राहुल ने खुद को निर्दोष बताया जिसके बाद कोर्ट ने ट्रायल की प्रक्रिया शुरू की। कांग्रेस नेता ने कोर्ट में पेशी से माफी की अर्जी लगाई, जिस पर आगामी 10 दिसंबर को सुनवाई होगी। कोर्ट ने कहा कि अगली तारीख पर कांग्रेस नेता का हाजिर रहना जरूरी नहीं है। वायनाड से सांसद राहुल गांधी गुरुवार सुबह सवा दस बजे सूरत जिला सत्र न्यायालय पहुंचे। मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी बीएच कपाडिया ने आरोप सुनाते हुए कांग्रेस नेता से पूछा कि क्या उन्हें आरोप कुबूल है? इस पर उन्होंने कहा, 'उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है इसलिए आरोप स्वीकार नहीं है।'

भारतीय दंड संहिता की धारा 499 व 500 के तहत राहुल के खिलाफ मुकदमा दाखिल हुआ तथा प्राथमिक सुबूतों की जांच के बाद कोर्ट ने राहुल को 10 अक्टूबर को पेश होने का समन भेजा था। भाजपा विधायक पूर्णेश मोदी ने अपनी शिकायत में कहा है कि 13 अप्रैल 2019 को कर्नाटक के कोलार में राहुल ने एक रैली में कहा था, 'नीरव मोदी, ललित मोदी, नरेंद्र मोदी.. आखिर इन सभी का उपनाम मोदी क्यों है? सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों होता है?' पूर्णेश मोदी ने कहा कि कांग्रेस नेता के इस बयान से वह और समुदाय के लाखों लोगों की भावना को ठेस पहुंची है।

मुझे चुप कराने के लिए बेताब हैं विरोधी

राहुल कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने गुरुवार को कहा कि उनके खिलाफ दायर कराए गए मानहानि के मामले, उन्हें चुप कराने के लिए बेताब उनके राजनीतिक विरोधियों का एक प्रयास है। गांधी ने ट्वीट किया, 'मेरा मुंह बंद कराने के लिए व्याकुल, मेरे राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों द्वारा दर्ज मानहानि के एक मामले में पेश होने के लिए मैं आज सूरत में हूं। मेरे साथ एकजुटता दिखाने के लिए यहां जमा हुए कांग्रेस कार्यकर्ताओं के प्यार एवं सहयोग के लिए मैं उनका आभारी हूं।'

गुजरात की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप