अहमदाबाद, जेएनएन। गुजरात सरकार गरीब मरीजों को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। इसके लिए (मां) और (मां वात्सल्य कार्ड) मुहैया करवाकर कॉरपोरेट अस्पतालों में भी गरीबों को यह सुविधा दी है। इसके लिए राज्य सरकार बिल की अदायगी करती है। इस सुविधा के लिए कार्डधारकों से रुपये वसूलने वाले तीन अस्पतालों की मान्यता निरस्त कर सात के खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी किया है। अहमदाबाद महानगरपालिका ने भी गरीब मरीजों को अवहेलना की है। मनपा संचालित सरदार वल्लभ भाई पटेल अस्पताल को भी कारण बताओ नोटिस मिला है।

राज्य की कॉरपोरेट व निजी अस्पतालों ने कार्डधारक मरीजों से भी फीस वसूलने की जानकारी पर सरकार ने सख्त कदम उठाए हैं। इसके लिए अहमदाबाद सहित राज्य की 11 अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। इनमें आठ अस्पताल को कारण बताओ नोटिस और तीन की मान्यता निरस्त कर दी है।

मां और मां वात्सल्य कार्डधारक गरीब मरीजों से रुपये ऐंठने वाले स्टार हॉस्पिटल अहमदाबाद, शेल्बी हॉस्पिटल अहमदाबाद, पारेख्स हॉस्पिटल अहमदाबाद सरदार वल्लभ भाई पटेल हॉस्पिटल अहमदाबाद किरण मल्टी स्पेश्यालिस्ट हॉस्पिटल सूरत, बीडी महाबीर हॉस्पिटल सूरत तथा मां उमा हॉस्पिटल महेसाणा को कारण बताओ नोटिस जारी कर सरकार ने एन.यएस वीराणा वोकहार्ट हॉस्पिटल राजकोट, स्टर्लिंग हॉस्पिटल राजकरोट तथा सेवियर हॉस्पिटल अहमदाबाद की मान्यता निरस्त कर दी है।

गुजरात की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप