अहमदाबाद, जागरण संवाददाता। केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास अठावले ने पाटीदार समाज को ओबीसी वर्ग में आरक्षण देने की मांग करके गुजरात में अपनी पार्टी की नींव डालने की शुरुआत कर दी है‌। अठावले ने अपनी पार्टी के गुजरात में चुनाव लड़ने का भी ऐलान किया है। गुजरात यात्रा के दौरान रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (ए) के सुप्रीमो रामदास अठावले ने वडोदरा में पत्रकारों से कहा कि गुजरात के पाटीदार समुदाय को ओबीसी वर्ग में शामिल किया जाना चाहिए ओबीसी के तहत उसे आरक्षण मिलना चाहिए। पाटीदार आरक्षण की मांग को जायज ठहराते हुए अठावले ने कहा कि सामाजिक न्याय के लिए पाटीदार समाज की मांग जायज है। अठावले ने रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के बैनर तले गुजरात विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार खड़ा करने का भी ऐलान किया है। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी से गठबंधन की उम्मीद के साथ 4 से 5 सीट मांगी है।

पाटीदारों के आरक्षण की मांग का समर्थन

अठावले अक्सर गुजरात की यात्रा पर आरक्षण के मुद्दे पर बोलते रहे हैं पाटीदार आरक्षण आंदोलन का उन्होंने वक्त बेवक्त समर्थन भी किया लेकिन अपनी इस यात्रा में उन्होंने अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा तथा पार्टी को गुजरात में खड़ी करने का इरादा जाहिर करते हुए खुलकर अब पाटीदारों की आरक्षण की मांग के समर्थन में आ गये हैं। रामदास अठावले इससे पहले केवड़िया स्टैचू ऑफ यूनिटी जहां सरदार पटेल की दुनिया में सबसे ऊंची प्रतिमा को श्रद्धांजलि दी तथा इसके बाद दलित, आदिवासी तथा अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों के सामाजिक न्याय के मुद्दों पर चर्चा की। अठावले वडोदरा में दादा साहब फाल्के के नाम से जुड़ी संस्था की ओर से आयोजित ग्लोबल यूथ आइकन अवॉर्ड्स के वितरण समारोह की समीक्षा बैठक में हिस्सा लेने आए थे। अठावले ने कहा कि केंद्र सरकार ने संविधान संशोधन के जरिए ओबीसी में विविध जाति में समुदाय को शामिल करने का अधिकार राज्य सरकारों को दे दिया है। 

अठावले ने कहां की केंद्र सरकार की विविध योजनाओं से गुजरात के लाखों लोग लाभान्वित हुए हैं जनधन खाता योजना उज्ज्‍वला योजना प्रधानमंत्री आवास योजना प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना ऐसी योजनाएं रही जिनसे गुजरात के लाखों लोगों लाभ उठा रहे हैं।

केवड़िया का नाम एकता नगर

प्रधानमंत्री ने केवड़िया का नाम एकता नगर किया है जिसके लिए उनका आभार। प्रधानमंत्री मोदी ने 16 जनवरी को राष्ट्रीय स्टार्टअप दिवस घोषित किया है इससे उद्योगों की स्थापना के साथ रोजगार में वृद्धि होगी जिससे बेरोजगारी की समस्या से मुक्ति मिलने के साथ देश की अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिलेगी। अठावले ने महात्मा गांधी की आलोचना करने वालों तथा उन्हें गाली देने वालों को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि ऐसी हरकत करने वालों को उचित सजा दी जानी चाहिए स्वतंत्रता संग्राम में गांधीजी के साथ रहे डाक्टर अंबेडकर पर भी उन्होंने गर्व जताया।

किसान आंदोलन पर अठावले ने कहा कि केंद्र सरकार अब तीनों विवादित कृषि कानूनों को समाप्त कर चुकी है तथा एमएसपी की मांग पर भी समिति का गठन कर दिया गया है, इससे अब इस विवाद पर चर्चा करना भी बेकार है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव आदि नेताओं की जातिगत गणना को अनुचित करार देते हुए अठावले ने कहा कि इससे जातिवाद को बढ़ावा मिलेगा तथा संविधान की भावना को ठेस पहुंचेगा।

Edited By: Babita Kashyap