अहमदाबाद [शत्रुघ्न शर्मा]। विहिप नेता प्रवीण तोगडिय़ा ने गुजरात मॉडल पर सवाल उठाते हुए कहा है कि 16 लाख 50 हजार शिक्षित युवक बेरोजगार हैं, हालात यही रहे तो नेताओं का घर से निकलना मुश्किल हो जाएगा। किसान व श्रमिकों को बंधुआ मजदूर बनाने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि 50 फीसदी खेतों तक पानी नहीं पहुंचा पाए।

विश्व हिन्दू परिषद की स्थापना के स्वर्ण जयंती कार्यक्रम में विश्व हिन्दू समाचार पत्रिका के विमोचन के बाद तोगडिय़ा ने पत्रकारों को बताया कि देश में आज खेती लाभ का धंधा नहीं रह गया फिर सरकार किस मर्ज का इलाज कर रही है। पंजाब के 90 फीसदी खेत, हरियाणा के 82 तथा यूपी के 64 फीसदी खेत को सिंचाई का पानी मिल रहा है जबकि गुजरात के 50 फीसदी खेतों तक पानी नहीं पहुंचा है। राज्य में 35 लाख युवा बेकार हैं जिनमें 16 लाख शिक्षित बेरोजगार हैं। उनका कहना है कि दो दो लाख रुपए फीस भरकर इंजीनियरिंग करने के बाद भी बच्चों को फिक्स वेतन पर नौकरी मिलती है। श्रम कानून कमजोर होने से कंपनियों में कर्मचारी व श्रमिक बंधुआ मजदूर बन गए हैं।

गुजरात के विकास मॉडल पर सवाल उठाते हुए तोगडिय़ा ने कहा कि केंद्र सरकार ने 4 लेन सड़क के लिए 30 हजार करोड़ का फंड रखा है जबकि देश के 70 करोड़ किसानों के लिए 5 हजार करोड़ भी नहीं निकाल रही है।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस