अहमदाबाद, जागरण संवाददाता। गुजरात में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, लेकिन राज्य सरकार ने सतर्कता के साथ सामाजिक, राजनीतिक कार्यक्रम व विवाह समारोह में शामिल होने के लिए संख्या 150 यथावत रखी है। आठ महानगर व 19 शहरों में रात्रि कर्फ्यू जारी रखा गया है। बीते चौबीस घंटे में राज्य में संक्रमण के 21 हजार 225 केस सामने आए तथा 16 लोगों की मौत हो गई। मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल की अध्यक्षता में आयोजित कोर कमेटी की बैठक में अहमदाबाद, सूरत, राजकोट, वडोदरा, जामनगर, भावनगर, जूनागढ़ व गांधीनगर समेत 29 शहरों में रात्रि 10 से सुबह छह बजे तक का कर्फ्यू 29 जनवरी तक बढ़ा दिया है। सरकार ने राजनीतिक, सामाजिक व सांस्कृतिक समारोह में 150 लोगों के शामिल होने की मंजूरी को यथावत रखा गया है। उल्लेखनीय है कि राज्य में फिलहाल अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत, राजकोट, जामनगर, जूनागढ़, भावनगर और गांधीनगर के अलावा आणंद और नड़ियाद में रात्रि कर्फ्यू जारी है।

कोर कमेटी की बैठक में लिया निर्णय

भूपेंद्र पटेल ने इसके अलावा कोरोना वायरस की ज्यादा पाजिटिविटी दर वाले सुरेंद्रनगर, ध्रांगध्रा, मोरबी, वांकानेर, धोराजी, गोंडल, जेतपुर, कालावड़, गोधरा, विजलपोर (नवसारी), नवसारी, बिलीमोरा, व्यारा, वापी, वलसाड़, भरुच और अंकलेश्वर समेत 17 शहरों में भी 22 जनवरी से रात्रि 10 बजे से सुबह छह बजे तक रात्रि कर्फ्यू लगाने का निर्णय किया है। इसे 29 जनवरी तक बढ़ाया गया है। मुख्यमंत्री ने कोर कमेटी की बैठक में मंत्रियों और वरिष्ठ सचिवों के साथ कोरोना की स्थिति की सर्वग्राही समीक्षा करते हुए अन्य महत्वपूर्ण निर्णय किए हैं। जिसके अनुसार होटल और रेस्टोरेंट द्वारा दी जाने वाली होम डिलिवरी सेवाएं अब 24 घंटे चालू रखी जा सकती हैं। माल, बाजार, गुर्जरी मार्केट, रात्रि 10 बजे बाद खुले नहीं रह सकेंगे। सरकार ने कर्फ्यू के अलावा ओर कोई प्रतिबंध नहीं लगाया है।

कांग्रेस ने लगाया ये आरोप

वहीं, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जगदीश ठाकोर ने सरकार पर कोरोना से मौत के आंकड़े छिपाने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि कोरोना से मौत को लेकर मुआवजे के लिए सरकार के पास 91 हजार 810 आवेदन आए, जिसमें से 58 हजार को स्वीकृत कर लिया गया है। गौरतलब है कि सरकार अभी तक राज्य में कोरोना से मौत का आंकड़ा 10 हजार 196 बता रही है। सरकार ने मुआवजे के पांच हजार आवेदन को रद कर दिया है।

Edited By: Sachin Kumar Mishra