पेरिस, एएफपी। Ballon D'or Award 2019: मंगलवार को बैलन डि ओर अवार्ड की घोषणा फ्रांस मैग्जीन द्वारी की गई, जिसमें अर्जेंटीना के सुपरस्टार फुटबॉलर लियोनेस मेसी ने बाजी मारी। वहीं, लिवरपूल के दमदार फुटबॉलर विर्गिल वान डिज्क (Virgil van Dijk) इस खिताब से चूक गए। विर्गिल वान डिज्क मेसी से सिर्फ कुछ अंकों से चूक गए। हालांकि, विर्गिल वान डिज्क ने कहा है कि इस साल के बैलन डि ओर पुरस्कार के दावेदारों की सूची में टॉप 10 में से चार नाम लिवरपूल के खिलाड़ियों का होना उनके क्लब के लिए अतिरिक्त प्रेरणा का काम करेगा।

लियोनेल मेसी के बाद दूसरे स्थान पर रहे वान डिज्क ने कहा, "निश्चित ही यह सत्र असाधारण रहा। जितने नाम चुने गए थे उनमें सबसे ज्यादा नाम हमारे खिलाड़ियों के थे। इसलिए इस उपलब्धि पर हर कोई गर्व कर सकता है।" फ्रांस की फुटबॉल मैगजीन द्वारा आयोजित इन पुरस्कारों के लिए दुनिया भर के पत्रकारों ने वोटिंग की, जिसमें वान डिज्क के बाद लिवरपूल के ही सादियो माने चौथे, मोहम्मद सालाह पांचवें और गोलकीपर एलिसन बेकर सातवें स्थान पर रहे।

 

वान डिज्क की उम्मीद हुई चूर-चूर

इसके अलावा पिछले सत्र में चैंपियंस लीग का खिताब जीतने वाली जुर्गेन क्लोप की टीम के रोबर्टो फिर्मिनो, ट्रेंट एलेक्सजेंडर आर्नोल्ड और जॉर्जिनियो वाइनालडम भी बैलन डि ओर पुरस्कार के दावेदारों की सूची में शामिल थे। इतना ही नहीं, एलिसन बेकर ने याशीन ट्रॉफी जीती, जो साल के सर्वश्रेष्ठ गोलकीपर को दी जाती है। वान डिज्क उम्मीद कर रहे थे कि 2006 में फेबियो कनावारो के बैलन डि ओर जीतने के बाद वह इस पुरस्कार को पाने वाले पहले डिफेंडर बनेंगे।

'मैं देर से आया, लेकिन कभी सपने को नहीं छोड़ा'

नीदरलैंड्स के 28 वर्षीय डिफेंडर विर्गिल वान डिज्क ने इस अवार्ड सेरेमनी के बाद आगे कहा, "यह बताता है कि मेरा करियर कैसा रहा है। यह कभी आसान नहीं रहा। जो यहां विजेता बना उससे मेरा करियर कुछ अलग है। मैं देर से आया, लेकिन मैंने कभी भी अपने सपने को नहीं छोड़ा। मैंने हर कदम पर बहुत कड़ी मेहनत की है। जिस जगह पर मैं हूं वह कुछ ऐसा है जिस पर मुझे गर्व है।"

Posted By: Vikash Gaur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस