विश्वास न्यूज (नई दिल्ली)। सोशल मीडिया पर फाइजर वैक्सीन को लेकर एक पोस्ट तेजी से वायरल हो रही है। जिसमें दावा किया जा रहा है कि दवा कंपनी फाइजर के उपाध्यक्ष रेडी जॉनसन को COVID-19 वैक्सीन से संबंधित दस्तावेजों को जारी करने और धोखाधड़ी करने के आरोपों में गिरफ्तार किया गया है।

दैनिक जागरण की फैक्ट चेकिंग वेबसाइट विश्वास न्यूज की पड़ताल में वायरल दावा फर्जी निकला। वायरल पोस्ट एक व्यंग्य है और उसका सच्चाई से कोई वास्ता नहीं है। विश्वास न्यूज़ ने अपनी पड़ताल में पाया कि यह कोई असली घटना नहीं, बल्कि हास्य-विनोद के मकसद से लिखे गए काल्पनिक आर्टिकल का स्क्रीनशॉट है। इस आर्टिकल को ‘वैंकूवर टाइम्स’ नाम की वेबसाइट पर छापा गया था। यह वेबसाइट केवल काल्पनिक और व्यंग्यपूर्ण कहानियां प्रकाशित करती है।

वायरल दावे की सच्चाई जानने के लिए विश्वास न्यूज ने कई कीवर्ड का उपयोग कर Google पर सर्च करने की कोशिश की, लेकिन विश्वास न्यूज को वायरल दावे से जुड़ी कोई विश्वसनीय मीडिया रिपोर्ट नहीं मिली। विश्वास न्यूज ने फाइजर और फाइजर के उपाध्यक्ष रेडी जॉनसन के सोशल मीडिया अकाउंट्स को भी खंगाला, लेकिन विश्वास न्यूज को वहां पर भी वायरल दावे से जुड़ी कोई पोस्ट प्राप्त नहीं हुई।

पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए विश्वास न्यूज ने स्क्रीनशॉट को गौर से देखा और इस पर लिखी खबर को सर्च करना शुरू किया। इस दौरान विश्वास न्यूज को ये वायरल खबर ‘वैंकूवर टाइम्स’ नाम की वेबसाइट पर 6 मई 2022 को प्रकाशित मिली। खबर के आखिर में डिस्केलमर देते हुए बताया गया है कि इसमें कोई सच्चाई नहीं है, यह एक सटायर आर्टिकल है। इसके बाद विश्वास न्यूज ने वेबसाइट को खंगालना शुरू किया। वेबसाइट के अबाउट सेक्शन को खंगालने पर हमने पाया कि द वैंकूवर टाइम्स एक व्यंग्य वेब पोर्टल है। इस वेबसाइट पर प्रकाशित सभी खबरें और रिपोर्ट सिर्फ मनोरंजन के मकसद से लिखी गई है। इनमें किसी भी तरह की कोई सच्चाई नहीं है। वेबसाइट द्वारा लिखे गए लेखों को सच न समझें।

अधिक जानकारी के लिए विश्वास न्यूज ने फाइजर की प्रवाक्ता Trupti wagh से संपर्क किया। विश्वास न्यूज ने वायरल दावे को उनके साथ शेयर किया। उन्होंने विश्वास न्यूज को बताया वायरल दावा गलत है। फाइजर के उपाध्यक्ष रेडी जॉनसन को गिरफ्तार नहीं किया गया है

Edited By: Monika Minal