नई दिल्‍ली, विश्‍वास न्‍यूज। सोशल मीडिया में इनदिनों एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है। इसमें कुछ युवक और युवतियों को भाजपा के खिलाफ शपथ लेते हुए देखा जा सकता हैं। सोशल मीडिया पर कुछ यूजर्स इसे अभी का बताकर वायरल कर रहे हैं। फैक्‍ट चेकिंग टीम विश्‍वास न्‍यूज ने वायरल वीडियो की विस्‍तार से जांच की तो सच सामने आ गया। दरअसल वायरल वीडियो 26 जनवरी 2018 का है। यह वीडियो मध्‍य प्रदेश के इटारसी में बनाया गया था। इस वीडियो का हाल फिलहाल से कोई संबंध नहीं है। इसलिए विश्‍वास न्‍यूज की पड़ताल में वायरल पोस्‍ट भ्रामक साबित हुई।

विश्‍वास न्‍यूज ने सच जानने के लिए ऑनलाइन टूल्‍स के अलावा इटारसी में भी संपर्क किया था। सबसे पहले ऑनलाइन टूल InVID टूल का इस्‍तेमाल किया गया। वायरल वीडियो के कई ग्रैब्‍स इसके माध्‍यम से निकाल कर फिर गूगल रिवर्स इमेज में सर्च किया गया। सर्च के दौरान जी न्‍यूज की एक खबर मिली। 28 जनवरी 2018 को पब्लिश इस खबर में बताया गया कि मध्य प्रदेश के इटारसी के विजयलक्ष्मी इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट में राष्ट्र ध्वज के तले छात्रों ने बीजेपी के खिलाफ शपथ ली। वायरल वीडियो एएनआई के ट्विटर हैंडल पर भी मिला। इसे 28 जनवरी 2018 को ट्वीट किया गया था।

पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए विश्‍वास न्‍यूज ने इटारसी से प्रकाशित नईदुनिया अखबार के ब्‍यूरो चीफ अरविंद शर्मा से संपर्क किया। उन्‍होंने बताया कि वायरल वीडियो 26 जनवरी 2018 का है। उस वक्त इटारसी के एक संस्‍थान ने अपने छात्रों को भाजपा के खिलाफ शपथ दिलाई थी।

आखिरकार विश्‍वास न्‍यूज की पड़ताल में वायरल पोस्‍ट भ्रामक साबित हुई। 2018 के इटारसी के वीडियो को अब कुछ लोग वायरल कर रहे हैं।

पूरी पड़ताल को विस्‍तार से पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

https://www.vishvasnews.com/politics/fact-check-itarsis-2018-video-of-oath-against-bjp-is-now-viral/

Edited By: Nitin Arora