शो का नाम : द फाइनल कॉल

कलाकार : अर्जुन रामपाल, साक्षी तंवर, नीरज काबी, जावेद जाफरी, विपिन शर्मा, अनुप्रिया

चैनल : जी 5

निर्देशक : विजय लालवानी

रेटिंग : 3.5 स्टार

अनुप्रिया वर्मा, मुंबई. वेब शो की श्रेणी में लंबे समय के बाद एक अच्छा थ्रिलर दर्शकों के सामने है. थ्रिलर के रूप में दर्शकों ने सेक्रेड गेम्स को काफी पसंद किया है. ऐसे में जी 5 पर हाल ही में स्ट्रीम हुए वेब शो द फाइनल कॉल एक बेहतरीन वेब शो है. अबतक चार एपिसोड प्रसारित हो चुके हैं. चार और आने बाकी हैं. लेकिन इन चार एपिसोड में ही यह शो पूरी तरह रोमांचित करता है. शो में एक साथ कई कहानियां हैं. कई किरदार हैं. हर किरदार एक दूसरे से जुदा है, मगर जुड़ा हुआ है. किस तरह फिलहाल यह राज दर्शकों के सामने नहीं खुला है.

शो में अहम् किरदार निभा रहे अर्जुन रामपाल हैं, जो कि ( करण सचदेव ) एक फाइटर पायलट के रूप में अपनी जर्नी की शुरुआत करते हैं. लेकिन कुछ ऐसी परिस्थितियां बनती हैं कि वह फाइटर पायलट के बजाय पसेंजेर पायलट बन जाते हैं. करण की जिंदगी से जुड़ी कई बैक स्टोरी साथ-साथ चल रही है, जिसमें यह स्पष्ट है कि वह अपने परिवार को एक बम ब्लास्ट में खो चुका है. वह पायलट के रूप में जिस प्लेन के साथ फ्लाई कर रहा है, उसमें 300 यात्री हैं. परिस्थितियाँ कुछ ऐसी होती हैं कि करण को आतंकवादी गतिविधियाँ करने वाला शख्स मान लिया जाता है, जबकि सच्चाई इससे कोसों दूर है. वहीं इसी प्लेन में एक बड़ा व्यवसायी ट्रेवल कर रहा है, जिसके पास पैसा है. मगर सुकून नहीं है. उसे उस सुकून की तलाश है और इसी बीच उसकी भी अपनी बैक स्टोरी है. एक कहानी राउंड ऑफिसर महिला की है, जिसका किरदार साक्षी तंवर ने निभाया है और क्या खूब निभाया है. लंबे समय के बाद किसी महिला किरदार को वर्दी में देख कर अच्छा लगता है. वह समझदार है और अपनी बातों की धनी है. बातों से काम करवाने में माहिर हैं. उसकी भी अपनी एक कहानी है.

नीरज काबी एक भविष्यवक्ता हैं और उनकी भी अपनी एक कहानी है. ये सारी कहानियां आपस में तब टकराती हैं जब वह एक फ्लाईट में ट्रेवल कर रहे होते हैं. फिलहाल चार एपिसोड्स में मेकर ने अच्छे सिचुएशन गढ़े हैं और कई अनकही बातों को उलझा कर रखा है, ताकि वह रोमांच बरक़रार रहे. निसंदेह आने वाले एपिसोड में यह देखना दिलचस्प होगा कि सारे किरदारों के साथ क्या कहानी जुड़ी है, क्या राज़ जुड़ा है. थ्रिलर जॉनर में यह अच्छा प्रयास है. एक दिलचस्प बात यह भी है कि इस शो में थ्रिल के साथ-साथ जिंदगी की फिलॉसफी को भी दर्शाने की कोशिश की गई है.

ट्रीटमेंट के लिहाज से भी इसे अति नाटकीय नहीं बनाया गया है. सारे किरदारों और उनकी बैक स्टोरी उत्सुकता को और अधिक बढ़ाते हैं. मेकर ने वह रोमांच टूटने नहीं दिया है. लंबे समय के बाद अर्जुन रामपाल अपनी फिल्मों की तरह इस शो में अलसाए मूड में नजर नहीं आ रहे हैं. इसलिए उनका काम संतोषजनक है. मगर ध्यान खींचती हैं साक्षी तंवर. शो में वह पूरे तेवर, जोश और अलग ही मिजाज में नजर आ रही हैं. इस अवतार में उन्हें कम ही देखा गया है.

इस लिहाज से उनके किरदार में अपनी ताजगी नजर आती है. जावेद जाफरी को उनकी योग्यता के मुताबिक़ उस स्तर का किरदार सौंपा गया है. पूरी उम्मीद है कि आने वाले एपिसोड में वह हैरान करेंगे. वहीं विपिन शर्मा इस शो के सरप्राइज पॅकेज साबित हो सकते हैं. अब तक के उनके और साक्षी के बीच के संवाद दमदार हैं और दोनों के बातों का वार का सिलसिला देखना दिलचस्प होगा. शो के चौथे एपिसोड में उस जगह मेकर ने अल्पविराम लगाया है, जिससे कि आने वाले एपिसोड को लेकर उत्सुकता और बढ़ गई है.

यह भी पढ़ें: Balakot में मिले मुंहतोड़ जवाब के बाद खिसियाये पाकिस्तान ने भारतीय फिल्मों को किया बैन

Posted By: Manoj Khadilkar