- पराग छापेकर

- स्टार कास्ट: नवाजुद्दीन सिद्दीकी, अमृता राव और महेश मांजरेकर 

- निर्देशक: अभिजीत पानसे

- निर्माता: संजय राउत, वायकॉम 18 

बॉलीवुड की बायोपिक की बाढ़ में एक और बायोपिक दर्शकों को परोसा गया है 'ठाकरे'। यह शिवसेना के पॉवर ब्रांड नेता स्वर्गीय बालासाहेब ठाकरे की जिंदगी पर आधारित फिल्म है। फिल्म में बालासाहेब ठाकरे कि कार्टूनिस्ट के रूप में नौकरी करने से लेकर महाराष्ट्र के सबसे पॉवरफुल नेता बनने तक का सफर इस फिल्म में दर्शाया गया है। हिंदुस्तान पाकिस्तान का क्रिकेट मैच हो या बाबरी मस्जिद का विध्वंस, प्रांतीय मुद्दा हो या फिर भूमि पुत्र को नौकरी इन सारे मुद्दों पर फिल्म में प्रकाश डाला गया है। फिल्म बाल ठाकरे के जीवन को दर्शाती है कि कैसे वे शिवसेना सुप्रीमो बने।

निर्देशक अभिजीत पानसे ने स्क्रीनप्ले को बहुत सटीक ढंग से गढ़ा है। फिल्म को सीपिया कलर दे कर सूझबूझ का काम किया है। इससे काम तय करने में काफी आसानी हो जाती है। 

अभिनय की बात करें नवाजुद्दीन सिद्दीकी बाल ठाकरे के किरदार के साथ पूरी तरह से न्याय करते नजर आते हैं। अमृता राव के पास करने को वैसे तो कुछ नहीं था लेकिन जितना उनके हिस्से आया उन्होंने बखूबी निभाया। बाकी सारे किरदार अपनी-अपनी भूमिकाओं में जंचे हैं। 

इस फिल्म की पटकथा संजय राउत ने लिखी हुई है जो कि शिवसेना के नेता है, वहीं इस फिल्म के प्रोड्यूसर भी हैl ठाकरे को हिंदी और मराठी दो भाषाओं में रिलीज़ किया गया। इस फिल्म के साथ एक बड़ा ट्रेंड भी शुरू हो गया है। फिल्म का पहला शो 25 जनवरी को सुबह सवा चार बजे हुआ। अब तक सिर्फ़ साउथ की फिल्में ही सुबह रिलीज़ हुआ करती थीं l 

कुल मिलाकर अगर आपको राजनीतिक गतिविधियों में दिलचस्पी है तो आपके लिए यह फिल्म मनोरंजक साबित होगी अन्यथा फिल्म समझने में दिक्कत आ सकती है। 

- जागरण डॉट कॉम रेटिंग: पांच (5) में से तीन (3) स्टार

- अवधि: 2 घंटा 19 मिनट

Posted By: Rahul soni

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप