[स्मिता श्रीवास्तव]। अभिनेता और होस्ट करण कुंद्रा करीब दो साल बाद शो दिल ही तो है में नजर आएंगे। सोनी पर प्रसारित होने वाले इस शो को ऑनलाइन भी देखा जा सकता है। वह एम टीवी के शो लवगुरु में भी बतौर होस्ट नजर आ रहे है।

दो साल बाद फिक्शन शो में वापसी का मन कैसे मनाया?
मैं टीवी से लगातार जुड़ा था। रियलिटी शो होस्ट कर रहा था। फिल्म 1921 भी बॉक्स आफिस पर सफल रही थी। ऐसे में टीवी पर उम्दा कहानी ही करनी थी। यह शो काफी दिलचस्प है। यह इंटेंस प्रेम कहानी है। बहुत रियलिस्टिक किरदार है। इसमें टीवी वाला मेलोड्रामा नहीं दिखेगा। कहानी दिल्ली की पृष्ठिभूमि में है। मेरे किरदार का नाम ऋत्विक नून है। वह अमीर परिवार से है। हालांकि मेरे किरदार में ग्रे शेड है। खास बात यह है कि यह शो सोनी के अलावा एएलटी बालाजी पर भी प्रदर्शित होगा।

टीवी के लिए ऑनलाइन प्लेटफार्म को किस चुनौती के तौर पर देखते हैं?
सोनी चैनल और एकता कपूर ने बहुत अच्छा कदम उठाया है। वेब पर आने वाला कंटेंट टीवी से नदारद था। कम समय में वेब ने अपनी पुख्ता पहचान बनाई है। हमारा शो पहले चैनल पर आएगा, बाद में ऑनलाइन। यह बड़ी चुनौती भी है और दोनों के लिए बड़ा रिस्क। मुझे यकीन है कि यह शो दोनों ही आडियंस को पसंद आएगा।

आप कई शो होस्ट कर रहे हैं। इससे किस तरह का लगाव है?
मैंने शो होस्ट करने की शुरुआत गुमराह से की थी, बाद में और कई किए। कुल मिलाकर देखा जाए तो मैंने फिक्शन, रियलिटी शो और फिल्में भी कर लीं। शो होस्ट करने में मौज-मस्ती होती है। हालांकि एक्टिंग मेरा पैशन है।

आजकल प्रेम कहानी के साथ सामाजिक मुद्दे भी जुड़ रहे हैं। आपके शो में कोई मुद्दा उठाने का प्रयास किया गया है?
हमारा शो विशुद्ध प्रेम कहानी है। आमतौर पर शो में महिला किरदारों को रोते-धोते दिखाते हैं। इस शो में वैसा देखने को नहीं मिलेगा। शो में पलक शर्मा का किरदार योगिता बिहानी निभा रही हैं। वह बहुत स्ट्रांग और आत्मनिर्भर लड़की है। वह जैसे को तैसा देने में यकीन रखती है और अन्याय के खिलाफ आवाज उठाती है।

आप बिजनेस परिवार से ताल्लुक रखते हैं। क्या आगे चलकर शो बनाने की तैयारी है?
टीवी इंडस्ट्री काफी बड़ी है। यहां काम करते हुए प्रोडक्शन की बारीकियों से वाकिफ हुआ हूं। मुझे नहीं लगता कि टीवी प्रोडक्शन से जुड़ सकूंगा, मगर अपने प्रोडक्शन हाउस को लेकर मेरी योजनाएं हैं और अक्टूबर-नवंबर से पंजाबी फिल्मों का निर्माण करूंगा।

एकता कपूर के साथ पहले भी काम कर चुके हैं। कुछ खास कारण?
मैंने अपना डेब्यू शो एकता कपूर के साथ ही किया था। इसके बाद ज्यादातर फिक्शन शो एकता के साथ ही किए हैं। फिक्शन शो के मामले में मैं उन पर ही यकीन करता हूं। मुझे जब भी कोई गाइडेंस चाहिए होती है तो वह हमेशा मौजूद रहती हैं। मेरे कॅरियर का श्रेय उन्हें ही जाता है।

आज की तारीख में प्यार, पैसा और प्रसिद्धि में प्यार किस पायदान पर आ गया है और प्यार के मायने कितने बदल गए हैं?
प्यार के मायने कभी नहीं बदलते। हां, इजहार करने का तरीका जरूर बदल जाता है। वैसे सोशल मीडिया का प्रभाव भी प्यार पर पड़ा है। बहुत से लोग अपने प्रेम को सोशल मीडिया पर दर्शाने में यकीन रखने लगे हैं। कुछ कपल अपनी फोटो अपलोड करने को प्राथमिकता देते हैं, सबको अपनी लाइक की चिंता रहती है। उनमें प्यार कितना है ये वही जानते होंगे।

फिल्म मुबारका में आप सहयोगी की भूमिका में थे, जबकि 1921 में लीड में। आपके लिए किरदार की लेंथ कितना मायने रखती है?
किरदार की लेंथ मायने नहीं रखती है। मैं टीवी से अर्से से जुड़ा हूं। फिल्में भी कर रहा हूं। मैंने अपने काम से अपनी पहचान बनाई है। आज की तारीख में ब्रांड बनना बहुत जरूरी है। शो में आपके किरदार को फीमेल अटेंशन मिलता है और रियल लाइफ में भी।

आपकी दोस्त अनुष्का दांडेकर का क्या रिएक्शन होता है?
अगर मुझे फीमेल अटेंशन मिलता है तो उससे ज्यादा उन्हें मेल अटेंशन। वैसे वह इन चीजों को समझती हैं और इन मामलों में बेहद कूल हैं। 

Posted By: Sanjay Pokhriyal