राहुल सोनी, मुंबई। फिल्म शेफ इस साल 6 अक्टूबर को रिलीज़ हुई है जिसमें सैफ अली खान और एक्ट्रेस पद्मप्रिया जानकीरमन का अहम किरदार था। पद्मप्रिया रीजनल सिनेमा में बेहतर काम कर चुकी हैं। जागरण डॉट कॉम से खास बातचीत में पद्मप्रिया ने सिनेमा को लेकर अपनी राय रखी और आगे की स्ट्रेटजी के बारे में बताया। पढ़िए पूरा इंटरव्यू -

कंटेंट की अब नहीं है कमी - 

पहले सिनेमा में कंटेंट की कमी थी। यह कमी कुछ सालों पहले तक थी लेकिन अब एेसा नहीं है। चूंकि अब अच्छे कंटेंट पर फिल्में बन रही हैं जिन्हें सराहना भी मिल रही है। वैसे भी हमारा देश कल्चरली काफ़ी रिच है तो कंटेंट की कमी नहीं होना चाहिए। अब वेब सीरिज के जरिए भी अच्छा कंटेंट सबके सामने आ रहा है।

रीजनल सिनेमा में प्रमोशन की कमी - 

बात करें बॉलीवुड की या फिर रीजनल सिनेमा की तो दोनों अपनी-अपनी जगह अच्छा कर रहे हैं। फर्क सिर्फ प्रमोशन का है कि रीजनल सिनेमा में बॉलीवुड के मुकाबले कम प्रमोशन किया जाता है।

फिल्मों में अभिनय के साथ फिल्में बनाएंगी -

पद्मप्रिया जानकीरमन ने बताया कि, वे अब फिल्मों में एक्टिंग करने के साथ-साथ फिल्में प्रोड्यूस भी करना चाहती हैं। पद्मप्रिया कहती हैं कि, मैं एक्टिंग करूंगी पर फिल्में प्रोड्यूस करने का भी टारगेट है। फिल्मों को लेकर जहां बात एंटरटेनमेंट की होती है तो मेरा यह मानना है कि एंटरटेनमेंट के साथ कंटेंट अच्छा देने की कोशिश होगी। इस बात का ध्यान रखा जाएगा की एंटरटेनमेंट के लिए कुछ गलत बात न पेश की जाए। ये हैं फेवरेट डायरेक्टर और एक्टर पद्मप्रिया ने फेवरेट डायरेक्टर्स के बारे में बताते हुए कहा कि उन्हें अनुराग कश्यप की फिल्में बहुत पसंद है। वहीं, एक्टर्स में वो वरुण धवन की फिल्में ज्यादा देखती हैं।

एक्सिडेंटल एक्ट्रेस हैं पद्मप्रिया -

पद्मप्रिया बताती हैं कि, वो एक एक्सिडेंटल एक्ट्रेस हैं। चूंकि उनका फिल्मों में काम करने का कोई टारगेट नहीं था। हां, यह जरूर था कि तीन साल की उम्र से वो भरत नाट्यम डांस करती थी। वहीं 13 साल की उम्र में उन्होंने थिएटर करना शुरू कर दिया था। महज 14 साल की उम्र में वो मिस आंध्र प्रदेश भी बन गई थीं।

एक्टर्स भी हैं कंटेंट क्रिएटर्स -

पद्मप्रिया का कहना है कि, एक्टर्स भी कंटेंट क्रिएटर्स हैं। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि, हम न्यूटन को राजकुमार राव के बाहर या फिर विजयदीनानाथ चौहान को अमिताभ बच्चन के बाहर नहीं देख सकते। इसका कारण है कि एक्टर अपने किरदार को निभाने के लिए कंटेंट की स्टडी करता है उसके बाद ही वह उसे निभा पाता है। कई बार वो कंटेंट क्रिएट भी करता है। चूंकि, जो स्क्रिप्ट लिखी गई है उसको बाहर लाना एक्टर का काम होता है कि वो किस प्रकार उस स्क्रिप्ट को अपनी एक्टिंग स्किल से अॉडियंस के सामने प्रस्तुत करता है। इसलिए बेहतर एक्टर वही होता है जो स्क्रिप्ट को असरदार एक्टिंग से प्रस्तुत करे।

यह भी पढ़ें: 31 मिलियन के बाद 41 मिलियन पर ही रूकेंगे अमिताभ बच्चन

आपको बता दें कि, अक्टूबर में रिलीज़ हुई फिल्म शेफ में पद्मप्रिया की अहम भूमिका थी। इसमें लीड रोल सैफ अली खान ने निभाया था। 

Posted By: Rahul soni