नई दिल्ली, जेएनएन। साल 2020 की शुरुआत बड़े उत्साह और उमंग के साथ हुई थी, मगर पहली तिमाही ख़त्म होते-होते फ़िल्म इंडस्ट्री की हालत खस्ता हो गयी है। कोरोना वायरस ने बॉक्स ऑफ़िस की कमर तोड़ दी है। अगर सब कुछ ठीकठाक चलता तो पहली तिमाही में बॉक्स ऑफ़िस की तस्वीर ही कुछ और होती। साल 2019 के मुकाबले 2020 की पहली तिमाही में बॉक्स ऑफ़िस पर फ़िल्मों का प्रदर्शन पहले ही निराशाजनक था, रही-सही कमर कोरोना ने तोड़ दी। पिछले साल की पहली तिमाही के मुकाबले इस तिमाही में कमाई क़रीब 200 करोड़ रुपये पीछे चली गयी है। 

साल 2020 की पहली तिमाही ख़त्म होने से पहले ही देश में कोरोना वायरस की दस्तक हो गयी थी, जिसका असर दूसरे काम-धंधों की तरह मनोरंजन उद्योग पर भी पड़ा। देशभर के कई राज्यों में 31 मार्च तक सिनेमाघर बंद होने की वजह से मार्च के दूसरे हाफ़ में रिलीज़ होने वाली कई फ़िल्मों की रिलीज़ टाल दी गयी, जिनमें अक्षय कुमार की सूर्यवंशी भी शामिल है, जो पहले 24 मार्च को रिलीज़ होने वाली थी। 

ऐसे में 13 मार्च को रिलीज़ हुई अंग्रेज़ी मीडियम मार्च महीने की आख़िरी बड़ी रिलीज़ मानी जा सकती है। जनवरी से मार्च तक 2 दर्ज़न से अधिक फ़िल्में रिलीज़ हुई हैं, मगर इनमें 13 फ़िल्में उल्लेखनीय रहीं, जिन्होंने बॉक्स ऑफ़िस पर अपना असर छोड़ा। ये फ़िल्में अपनी स्टार और प्रोडक्शन वैल्यू के चलते चर्चा में रहीं। इन 13 फ़िल्मों ने 800 करोड़ से अधिक बॉक्स ऑफ़िस पर कारोबार किया है, जबकि इसी अवधि में 2019 में लगभग इतनी ही फ़िल्मों ने 1000 करोड़ के आसपास जमा किये थे। 

पहली तिमाही की टॉप 10 फ़िल्में देखें तो लिस्ट इस प्रकार बनती है-

  1. तानाजी- द अनसंग वॉरियर- 10 जनवरी- 280 करोड़
  2. बागी 3- 6 मार्च- 96.87 करोड़
  3. स्ट्रीट डांसर 3डी- 24 जनवरी- 75 करोड़
  4. शुभ मंगल ज़्यादा सावधान- 21 फरवरी- 62.50 करोड़
  5. मलंग- 7 फरवरी- 59 करोड़
  6. लव आज कल- 14 फरवरी- 36.50 करोड़
  7. छपाक- 10 जनवरी- 32.48 करोड़
  8. थप्पड़- 28 फरवरी- 32 करोड़
  9. पंगा- 24 जनवरी- 28.92 करोड़
  10. जवानी जानेमान- 31 जनवरी- 28.50 करोड़

(यह आंकड़े ट्रेड सूत्रों से लिये गये हैं। निर्माताओं के आंकड़ों में फ़र्क हो सकता है)

सिनेमाघर बंद होने से सबसे बुरा असर बाग़ी 3, थप्पड़ और अंग्रेज़ी मीडियम पर पड़ा। 

साल 2020 की दूसरी तिमाही शुरू हो चुकी है, मगर राहत की उम्मीद नज़र नहीं आ रही है। लॉकडाउन की वजह से 14 अप्रैल तक पूरा देश एक तरह से बंद है। लॉकडाउन हटने के बाद भी कोरोना वायरस का ख़ौफ़ जारी रहेगा, जिसके चलते लोग सिनेमाघरों में जमा होने से डरेंगे। इसीलिए निर्माताओं ने भी एहतियात बरतते हुए अप्रैल फ़िल्में रिलीज़ ना करने का फ़ैसला किया है। अप्रैल में रणवीर सिंह की 83 जैसी बड़ी फ़िल्म की रिलीज़ टल चुकी है। ज़ाहिर है कि दूसरी तिमाही के पहले महीने में फ़िल्म इंडस्ट्री का काम-काज पूरी तरह ठप रहेगा, यानि अप्रैल से जून की तिमाही में सिर्फ़ दो महीने बचेंगे। उसमें भी कोरोना वायरस पैनडेमिक के आफ्टर इफेक्ट्स की वजह से कारोबार में मंदी रहने की पूरी सम्भावा है।

फ़िलहाल मई से हालात कुछ बेहतर होने की सम्भावना की जा सकती है। सलमान ख़ान की राधे और अक्षय कुमार की लक्ष्मी बम जैसी फ़िल्में रिलीज़ होने वाली हैं। इन फ़िल्मों के लिए दर्शकों का रवैया काफ़ी हद तक दूसरी तिमाही की दशा और दिशा तय करेगा।

Posted By: Manoj Vashisth

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस