मुंबई। जटिलताओं और तमाम पेंचो-ख़म के चलते फ़िल्म निर्माण को अक्सर पुरुषों का काम माना जाता है। मगर, फ़िल्म इंडस्ट्री की शुरुआत से ही स्त्रियां इस धारणा को ग़लत साबित कर रही हैं। 30 और 40 के दशक में ऐसी महिला प्रोड्यूसर मिल जाएंगी, जिन्होंने फ़िल्म निर्माण में पुरुषों के कंधे से कंधा मिलाकर सहयोग किया है।

देविका रानी जैसी अभिनेत्रियां पर्दे पर अदाकारी का जलवा दिखाने के साथ पर्दे के पीछे भी प्रोड्यूसर के रोल में बख़ूबी कामयाब रहीं। अभिनेत्रियों के फ़िल्म निर्माण में उतरने का ये सिलसिला आज ना सिर्फ़ जारी है, बल्कि पहले के मुक़ाबले अधिक प्रचलित हो चुका है।

माधुरी दीक्षित ने एक लंबे समय तक पर्दे पर अपनी अदाकारी से दिल धड़काये हैं। अभिनेत्री की लंबी पारी खेलने वाली माधुरी अब प्रोड्यूसर भी बन चुकी हैं। अपने पति डॉ. श्रीराम नेने के साथ मिलकर माधुरी ने फ़िल्म कंपनी शुरू की है, जिसके बैनर तले पहली मराठी फ़िल्म 15 ऑगस्ट का निर्माण शुरू किया है। इसके साथ माधुरी की अभिनय यात्रा भी जारी है। हिंदी सिनेमा में वो टोटल धमाल में नज़र आएंगी तो बकेट लिस्ट के ज़रिए मराठी सिनेमा में बतौर एक्ट्रेस डेब्यू कर रही हैं। करण जौहर की कलंक में भी माधुरी एक अहम रोल में दिखेंगी। इस फ़िल्म में वो संजय दत्त के साथ रीयूनाइट हो रही हैं। 

  • कंपनी का नाम- आर एंड एम मूविंग पिक्चर्स

प्रियंका चोपड़ा ने एक्ट्रेस के तौर पर अपनी पुख़्ता पहचान क़ायम की है। बॉलीवुड से हॉलीवुड तक प्रियंका के नाम की गूंज सुनाई दे रही है। इसके साथ प्रियंका ने फ़िल्म निर्माण भी शुरू कर दिया है। ख़ास बात ये है कि हिंदी सिनेमा के बजाए प्रियंका क्षेत्रीय भाषा में फ़िल्म निर्माण पर अधिक तवज्जो दे रही हैं। प्रियंका के बैनर तले बनी पहली फ़िल्म बम बम बोल रहा है काशी है। इसके बाद उन्होंने वेंटिलेटर शीर्षक से मराठी फ़िल्म बनायी, जो कमर्शियली और क्रिटकली कामयाब रही और पुरस्कार समारोहों में भी हिट रही। अब इस फ़िल्म का निर्माण अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में किया जा रहा है। पंजाबी फ़िल्म सरवन और सिक्किमी फ़िल्म पहुना भी प्रियंका की कंपनी ने बनायी हैं। प्रियंका ख़ुद हॉलीवुड फ़िल्म इंडस्ट्री में अपनी जड़ें जमा रही हैं। क्वांटिको के ज़रिए वो एक बार फिर अमेरिकन टीवी पर दिखायी देंगी तो हॉलीवुड फ़िल्मों में भी काम कर रही हैं।

  • कंपनी का नाम- पर्पल पेबल पिक्चर्स

बॉलीवुड में प्रोड्यूसर के तौर पर एक और अभिनेत्री का नाम तेज़ी से आगे बढ़ रहा है। ये हैं अनुष्का शर्मा, जो अपने होम प्रोडक्शन में तीन फ़िल्मों का निर्माण कर चुकी हैं। अनुष्का के फ़िल्म निर्माण की ख़ासियत है कि वो कम बजट की कंटेट प्रधान फ़िल्में चुन रही हैं। ख़ुद उनमें अभिनय करती हैं, जिससे लागत नियंत्रित रहती है। अनुष्का फ़िल्मों के प्रचार पर भी ज़्यादा ख़र्च नहीं करती हैं, लिहाज़ा रिलीज़ होने पर उनकी फ़िल्में नुक़सान में नहीं रहतीं। अनुष्का ने 2015 में अनुष्का ने पहली फ़िल्म एनएच10 का निर्माण किया। ख़ुद अभिनय भी किया। ये फ़िल्म समीक्षकों के साथ दर्शकों को पसंद आयी। एनएच10 हिट रही। इसके बाद अनुष्का ने फिल्लौरी और परी का निर्माण किया। ये दोनों फ़िल्में औसत रहीं।

  • कंपनी का नाम- क्लीन स्लेट फ़िल्म्स

ट्विंकल खन्ना ने वैसे तो काफ़ी वक़्त से अक्षय कुमार की फ़िल्मों में सह-निर्माता के तौर पर क्रेडिट रोल्स में जगह पाती रही हैं, मगर पैड मैन के साथ उन्होंने अपनी कंपनी मिसेज़ फ़नीबोंस मूवीज़ की शुरुआत कर दी है। बता दें कि मिसेज़ फ़नीबोंस के नाम से ट्विंकल अख़बारों में कॉलम भी लिखती हैं। एक्टिंग में ट्विंकल का करियर बहुत उल्लेखनीय नहीं रहा है, मगर पैड मैन बनाकर उन्होंने साबित कर दिया कि कहानियों की उन्हें अच्छी समझ है। इस फ़िल्म में अक्षय कुमार, राधिका आप्टे और सोनम कपूर ने मुख्य चरित्र निभाये। आर बाल्की ने निर्देशन किया। उम्मीद है कि ट्विंकल पति अक्षय के साथ मिलकर इसी तरह अर्थपूर्ण सिनेमा का निर्माण जारी रखेंगी।

  • कंपनी का नाम- मिसेज़ फ़नीबोंस मूवीज़

जूही चावला ऐसी अभिनेत्री हैं, जिन्होंने कई साल पहले फ़िल्म निर्माण की अहमियत समझ ली थी और 2000 में शाह रुख़ ख़ान और अज़ीज़ मिर्ज़ा के साथ मिलकर ड्रीम्ज़ अनलिमिटेड कंपनी का निर्माण किया। इसके बैनर तले उन्होंने तीन फ़िल्में बनायीं- फिर भी दिल है हिंदुस्तानी, अशोका और चलते-चलते। हालांकि ये पार्टनरशिप ज़्यादा लंबी नहीं चली और बाद में शाह रुख़ अलग हो गये। जूही ने इसके बाद किसी फ़िल्म का निर्माण नहीं किया। बतौर अभिनेत्री उनका सफ़र आज भी जारी है।

  • कंपनी का नाम- ड्रीम्ज़ अनलिमिटेड

महेश भट्ट की बड़ी बेटी पूजा भट्ट कैमरे के सामने जितनी सक्रिय रहीं, उतना ही काम उन्होंने कैमरे के पीछे भी किया है। पूजा ने 1998 की फ़िल्म दुश्मन से प्रोड्यूसर की कैप पहनी और अब तक आठ फ़िल्मों के निर्माण से जुड़ी रही हैं। इनमें से पांच फ़िल्मों का निर्देशन भी पूजा ने किया है। पूजा ने 1996 में अपनी कंपनी पूजा भट्ट प्रोडक्शंस की शुरुआत की थी।

  • कंपनी का नाम- पूजा भट्ट प्रोडक्शंस

दिया मिर्ज़ा 2011 में प्रोड्यूसर बन गयीं और पहली फ़िल्म लव ब्रेकअप्स ज़िंदगी का निर्माण किया। इस फ़िल्म में ज़ायद ख़ान और उन्होंने ख़ुद लीड रोल्स निभाये थे। इसके बाद 2014 में दिया की दूसरी फ़िल्म बॉबी जासूस आयी, जिसमें विद्या बालन लीड रोल में थीं। ये दोनों ही फ़िल्में नहीं चलीं। 

  • कंपनी का नाम- बॉर्न फ्री एंटरटेनमेंट

इन एक्ट्रेसेज़ के अलावा आज की पीढ़ी में लारा दत्ता, शिल्पा शेट्टी और प्रीति ज़िंटा ऐसी एक्ट्रेसेज़ हैं, जो निर्माण क्षेत्र में उतर चुकी हैं। हालांकि अभी इन्होंने एक-एक फ़िल्म ही प्रोड्यूस की है। इन एक्ट्रेसेज़ की प्रोडक्शन कंपनियों के नाम इस प्रकार हैं-

  • लारा दत्ता- भीगी बसंती एंटरटेनमेंट- 2011- चलो दिल्ली
  • शिल्पा शेट्टी- एसेंशियल स्पोर्ट्स एंड मीडिया- 2014- ढिश्कियाऊं
  • प्रीति ज़िंटा- पीज़ेडएनज़ेड मीडिया- 2013- इश्क़ इन पेरिस 

Posted By: Manoj Vashisth