नई दिल्ली, जेएनएन। Hotel Mumbai: साल 2008 में मुंबई में हुए आतंकवादी हमले से पूरा भारत दहल गया था। आतंकवादी मरीन ड्राइव के पांच सितारा होटल 'ताज' में घुस गए थे। इसके बाद उन्होंने लोगों को बंधक बना लिया था। सुरक्षा बलों ने तीन दिन चले ऑपरेशन में सबको बाहर निकाला था। इस हमले में होटल के अंदर कई कहानियां भी थीं। इसको लेकर कई फ़िल्मकारों ने पर्दे पर अपनी कलाकारी दिखाई।

ऐसी ही एक फ़िल्म अनुपम खेर लेकर आ रहे हैं। ऑस्ट्रलियन डायरेक्टर एंथोनी मार्स द्वारा निर्देशित फ़िल्म 'होटल मुबंई' में शेफ हेमंत ओबेरॉय की कहानी दिखाई गई है, जो होटल के अंदर गेस्ट की सुरक्षा करते हैं। 29 नवंबर को यह फ़िल्म थिएटर्स में आ जाएगी। हालांकि, ताज के अंदर की कहानी पर यह कोई पहली फ़िल्म नहीं है। इससे पहले साल 2015 स्पेनिश फिल्म 'ताज महल' इस मामले में बाज़ी मार चुकी है। आइए जानते हैं...

साल 2015 में आई थी फ़िल्म

'ताज महल' के नाम की इस फ़िल्म को साल 2015 में रिलीज़ किया गया था। इसे  Nicolas Saad ने डायरेक्ट किया था। फ़िल्म एक विदेशी टूरिस्ट की सच्ची घटना पर आधारित थी, जो मुंबई घूमने आए थे। हमले के वक्त पत्नी ताज होटल में होती है, जबकि पति किसी काम से बाहर। फ़िल्म में इसी रिश्ते की कहानी के बीच आतंकवादी हमलों को दिखाया गया है। इस फ़िल्म को वेनिस फ़िल्म फेस्टिवल के 72वें एडिशन में दिखाया गया था।

राम गोपाल भी बना चुके फ़िल्म

मुंबई हमलों पर सबसे पहली फ़िल्म राम गोपाल वार्मा ने बनाई थी। नाना पाटेकर के लीड वाली इस फ़िल्म का नाम 'द अटैक ऑफ़ 26/11' था। हालांकि, इस फ़िल्म में ताज की कहानी नहीं दिखाई गई थी। इसमें कसाब के ट्रायल के सहारे इस हमले को दिखाने की कोशिश की गई थी। ये फ़िल्म ताज से ज्यादा कसाब पर बेस्ड थी। फ़िल्म में नाना ने राकेश मारिया का किरदार निभाया है, जिन्हें इस केस को इन्वेस्टीगेट करने का काम किया था।

Posted By: Rajat Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप