अनुप्रिया वर्मा, मुंबई। अक्षय कुमार अपनी नयी फिल्म ''टॉयलेट एक प्रेम कथा'' को लेकर काफी उत्साहित हैं। उनका मानना है कि यह एक ऐसी फिल्म है, जो काफी अहम मुद्दे पर बनी है। लेकिन ऐसे मुद्दे पर फिल्म बनाने से लंबे समय से कतराते रहे हैं। 

अक्षय खुद बताते हैं कि उन्हें इस समस्या के बारे में पहले नहीं पता था, कि कई गांवों में अब तक टॉयलेट नहीं है और महिलाएं खुले में शौच करती हैं। उनके साथ कई हादसे हो जाते हैं। ऐसे में अक्षय ने लड़कियों को सुझाव दिया है कि जब लड़के वाले उनके घर पर शादी का प्रस्ताव लेकर आयें तो वह पहले लड़के की जॉब या पैसे आमदनी के बारे में पूछे, बल्कि वह सवाल करे कि क्या आपके घर में शौचालय है। तभी शादी के लिए हां, करे।क्योंकि शौचालय एक सोच है। एक नजरिया है। जिसके घर शौचालय नहीं है, मान लो कि वह महिला की क्या इज्जत करता होगा कि उसे खुले में जाकर साड़ी उठा कर शौच करना पड़े, लोग गंदी तस्वीरें लें और वीडियो बनाये। यह औरतों की इज्जत की बात है। लड़की लड़के से कहे कि अगर आप मेरी यही रक्षा नहीं कर सकते तो शादी का क्या फायदा, जिम्मेदारी क्या उठाओगे। अक्षय कहते हैं कि यह ऐसी ही फिल्म है। जिसमें पत्नी पति से तलाक लेने को तैयार है। लेकिन खुले में शौच जाने के लिए नहीं।

यह भी पढ़ें: ईशा देओल प्रेग्नेंट हैं, तस्वीरों में देखिए कैसे कर रही हैं मम्मी बनने की तैयारी

अक्षय आगे कहते हैं कि अगर इस फिल्म से कुछ प्रतिशत भी सोच में बदलाव हो जाये तो वह इसे कामयाब समझेंगे। अक्षय कहते हैं कि उन्हें तो पता चला कि कुछ गांव ऐसे भी हैं कि वहां सरकार का पैसा पहुंचता है।लेकिन लोग पैसों का गलत इस्तेमाल करते या पैसे लौटा देते और कहते कि घर में शौचालय तो नहीं बनेगा। अक्षय कहते हैं कि लोगों को मुद्दा आम सा लग रहा है। मगर यह मजाक की बात नहीं है, बल्कि गहराई वाली बात है। इस बारे में जरूर सोचा जाना चाहिए। अक्षय कुमार की यह फिल्म 11 अगस्त को रिलीज़ हो रही है। 

Posted By: Rahul soni