अनुप्रिया वर्मा, मुंबई. शशि कपूर अपने भाइयों में सबसे छोटे थे. राज कपूर से वह लगभग 14 साल छोटे थे. यही वजह थी कि वह उनसे काफी डरते भी थे और बड़े भाई वाला भी एक लिहाज रखते थे. लेकिन शम्मी कपूर से उनकी खूब बनती थीं और दोनों एक दूसरे के साथ काफी मस्ती किया करते थे.

वेटरन जर्नलिस्ट और शशि कपूर से कई बार रूबरू बातचीत कर चुके रउफ अहमद उनसे जुड़ीं कई यादें शेयर करते हुए बताते हैं कि शशि अपने भाई बहनों में सबसे छोटे थे तो सबके चहेते थे लेकिन सबसे अधिक उन्हें शम्मी कपूर से प्यार मिला. रउफ बताते हैं, शम्मी की मां शशि को दुनिया में लाना नहीं चाहती थीं. चूंकि राज कपूर और शम्मी कपूर के बाद बहन भी आ चुकी थीं तो परिवार पूरा हो चुका था. हालांकि बाद में उनकी मां इस बात को लेकर परिवार में खूब हंसती भी थीं और शशि को भी चिढ़ाया करती थीं कि हम तुझे लाना ही नहीं चाहते थे. शशि बचपन में इन बातों को लेकर चिढ़ते थे. लेकिन बाद में वह समझ गये कि सभी मस्ती करते हैं.

रउफ बताते हैं कि पहले शशि कपूर का नाम बलवीर कपूर था. लेकिन उनकी मां को बिल्कुल यह नाम पसंद नहीं था. शशि जब कुछ बड़े हुए तो वह अपने माटुंगा वाले घर की बालकनी में जाकर चाँद को देखा करते थे. उस वक्त उनकी मां ने तय किया और शशि नाम रखा क्योंकि शशि का मतलब भी चाँद होता है. यह भी रोचक बात है कि इसके बाद शशि की जिंदगी में हमेशा रौशनी ही आयी. शशि को उनकी मॉम प्यार से शैस बुलाती थीं.

शम्मी कपूर के लिए जब खरीदा इतना महंगा तोहफा

रउफ आगे बताते हैं कि शम्मी कपूर हमेशा अपने भाई शशि कपूर के सारे नखरे झेलते थे और उनके सारे शौक को पूरा करते थे. यहां तक कि जब शशि बोर्डिंग स्कूल भी गए तो वहां से शशि कपूर ने जब चिट्ठी लिखी कि वह बोर्डिंग में नहीं रह पाएंगे तो शम्मी उन्हें वहां से जाकर ले आये. रउफ बताते हैं कि उस दौर में शम्मी कपूर का दादर के इलाके में एक दुकान हुआ करती थी. वहां अनिल कपूर के पिताजी सुरेन्द्र कपूर उनका काम संभालते थे.

उस वक्त शशि कपूर ने भाई प्रेम में आकर शम्मी कपूर के ही अकाउंट से पैसे निकाल कर शम्मी के जन्मदिन पर एक महंगा तोहफा दे दिया था. उस दिन तो शम्मी के आँखों में आंसू थे. लेकिन उन्हें कुछ दिनों के बाद यह पता चला कि शशि ने उनके अकाउंट से ही पैसे निकालें हैं. उस वक़्त तक तो दो दिनों के शशि कपूर घर ही नहीं आये थे. बाद में वह घर लौटे तो शम्मी यह बात भूल चुके थे. वैसे भी शम्मी भाई से इतना प्यार करते थे कि वह उन पर कभी हाँथ नहीं उठाते थे.

यह भी पढ़ें: Happy Birthday Shashi Kapoor: कोलकाता का वह कमरा नंबर 17 और शशि कपूर की सोंदेश सी स्माइल

Posted By: Manoj Khadilkar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप