रुपेशकुमार गुप्ता, मुंबई। शाहरुख़ खान ने कहा है कि हर हाल में सभी को महिलाओं का सम्मान करना चाहिए और वो हमेशा ये मानते हैं कि महिलाओं का दर्ज़ा पुरुषों के मुकाबले अधिक ऊँचा होता है।

शाहरुख़ खान मुंबई में मंगलवार को हुए फरहान अख्तर के 'ललकार' नाम के लाइव इन कन्सर्ट में आये थे । इस मौके पर शाहरुख़ ने कहा कि वह और कार्यक्रम के आयोजक फरहान अख्तर महिलाओं को पुरुषों के मुकाबले अधिक ऊँचा दर्जा देते है। किंग खान ने इस मौके पर फ़रहान के पिता जावेद अख्तर की महिलाओं लिखी गई कविता का पाठ भी किया। फ़रहान अख्तर का ये कंसर्ट महिलाओं के विरुद्ध होने वाली घरेलू हिंसा और उत्पीडन के ख़िलाफ़ जागरूकता लाने के लिए आयोजित किया था। इस मौके पर शाहरुख़ ने कहा कि दरअसल मुझे कहा गया है यहां सम्मान पर बोलो। मैं और फरहान सहित जितने भी लोग यहाँ पर है, मुझे लगता है कि हम सभी का मानना है कि महिलाओं का दर्ज़ा हमेशा हमसे ऊपर होता है और उन्हें दिया भी जाना चाहिये। शाहरुख़ ने कहा कि हम महिलाओं से डरते भी है और मेरा मानना है कि बेटी, माँ, बहन और पत्नी से डरने में कोई गलत बात भी नहीं है।

यह भी पढ़ें:पद्मावती टल गई तो क्या, सनी लियोनी तैयार हैं उस दिन आपका इंतज़ार ख़त्म करने को

बता दें कि नारी सम्मान की बात को लेकर शाहरुख़ पब्लिक प्लेटफार्म पर अक्सर अपनी बात रखते रहे हैं। इसका सबूत देते हुए उन्होंने अपनी फिल्म चेन्नई एक्सप्रेस के क्रेडिट रोल (परदे पर आने वाले कास्ट-क्रू के नाम) में ख़ुद से पहले दीपिका पादुकोण का नाम लिखवाया था।

Posted By: Manoj Khadilkar