नई दिल्ली, जेएनएन। दूरदर्शन के नेशनल चैनल पर जब से रामायण का पुन: प्रसारण शुरू हुआ है, ट्विटर पर अरुण गोविल नाम से मिलते-जुलते कई फ़र्ज़ी एकाउंट बना दिये गये हैं, जिसकी वजह से काफ़ी असमंजस पैदा हो गया था। इस असमंजस को दूर करने के लिए और अपनी सही आइडेंटिटी बताने के लिए ख़ुद अरुण गोविल को सामने आना पड़ा, जिसके बाद फ़र्ज़ी हैंडल चलाने वाले ने माफ़ी मांगते हुए एकाउंट का नाम बदल दिया। हालांकि, शाम को ट्विटर ने यह एकाउंट ही बंद कर दिया था। 

अरुण गोविल ने अपने असली ट्विटर हैंडल @arungovil12 से सोमवार को एक वीडियो पोस्ट किया, जिसमें उन्होंने जानकारी दी कि उनके नाम से ट्विटर पर फ़र्ज़ी एकाउंट चलाया जा रहा है। उन्होंने अपने फॉलोअर्स से निवेदन किया कि वो फ़र्ज़ी हैंडल चलाने वाले से ऐसा ना करने के लिए अनुरोध करें। इसके साथ अरुण गोविल ने ट्विटर पर प्रोत्साहन देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुक्रिया भी अदा किया था। 

अरुण गोविल का यह वीडियो आने के बाद तस्वीर काफ़ी साफ़ हो गयी। इसके बाद उनके नाम पर चल रहे फ़र्ज़ी हैंडल @RealArunGovil ने उनके वीडियो को रीट्वीट करते हुए माफ़ी मांगी और ख़ुद को अरुण गोविल का भक्त बताया। ट्विटर एकाउंट का नाम भी अरुण गोविल से अरुण गोविल भक्त कर दिया। 

साथ ही उसने एकाउंट के फॉलोअर्स से भी माफ़ी मांगते हुए कहा कि उसने इस हैंडल से कभी कोई ग़लत बात पोस्ट नहीं की। अरुण जो फेसबुक पर पोस्ट करते थे, वो उसे यहां पोस्ट कर दिया कर दिया करता था।

शाम को ट्विटर ने इस एकाउंट को बंद कर दिया। 

ख़ास बात यह है कि अरुण गोविल ने पीएम मोदी की रविवार शाम 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट तक दिये जलाने की अपील का समर्थन करते हुए यूट्यूब पर जो वीडियो पोस्ट किया था, इस फ़र्ज़ी एकाउंट से वो भी ट्वीट कर दिया गया, जिसे पीएम के एकाउंट से भी रीट्वीट किया गया था। 

Posted By: Manoj Vashisth

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस