नई दिल्ली, जेएनएन। फ़िल्म फेडरेशन ऑफ़ इंडिया ने आज (25 नवम्बर) एलान किया कि मलयालम फ़िल्म जलीकट्टू 93वें एकेडमी अवॉर्ड्स की बेस्ट इंटरनेशनल फीचर फ़िल्म केटेगरी में भारत की आधिकारिक प्रविष्टि होगी। इस एलान के बाद फ़िल्म के निर्माताओं और इससे जुड़े कलाकारों को बधाई देने का सिलसिला शुरू हो गया। बधाई देने वालों में कंगना रनोट भी शामिल हैं, मगर उन्होंने फ़िल्म को बधाई देने के साथ बॉलीवुड की क्लास लगा दी।

कंगना ने लिखा- बुलीवुड (बॉलीवुड) की इतनी स्क्रूटनी और बैशिंग करने का नतीजा अब मिल रहा है। भारतीय फ़िल्में सिर्फ़ चार परिवारों द्वारा बनायी गयी फ़िल्में नहीं हैं। मूवी माफ़िया गैंग अपने-अपने घरों में छिप गया है और ज्यूरी को अपना काम करने दे रहा है। जलीकट्टू की टीम को बधाई। 

जलीकट्टू 4 अक्टूबर 2019 को रिलीज़ हुई थी। फ़िल्म फ़िलहाल अमेज़न प्राइम वीडियो पर भी उपलब्ध है। इसीलिए प्राइम ने भी इसके ऑस्कर के लिए आधिकारिक प्रविष्टि चुने जाने पर ख़ुशी ज़ाहिर की।

जलीकट्टू का निर्देशन लीजो जोस पेलिसेरी ने किया है, जबकि ओ थॉमस पनिकर निर्माता हैं। फ़िल्म की कहानी एस हरीश और आर जयकुमार की है, जो एस हरीश की शॉर्ट स्टोरी माओइस्ट पर आधारित है। फ़िल्म में एंटोनी वार्गीस, चेम्बन विनोद जोस और साबुमोन एबदुसामैड ने अहम भूमिकाएं निभायी हैं। इसका संगीत प्रशांत पिल्लई ने दिया, जबकि सिनेमैटोग्राफी गिरीश गंगाधरन की है। फ़िल्म का प्रीमियर 6 सितम्बर को टोरंटो इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल में हुआ था। 

बताते चलें कि 92वें एकेडमी अवॉर्ड्स के लिए ज़ोया अख़्तर की फ़िल्म गली बॉय को भारत की आधिकारिक प्रविष्टि चुना गया था, जिसको लेकर ज्यूरी की काफ़ी खिंचाई भी हुई थी। हालांकि, गली बॉय नामांकन की रेस से बाहर हो गयी थी। ऑस्कर अवॉर्ड्स के नामांकन तक पहुंचने वाली आख़िरी भारतीय फ़िल्म आमिर ख़ान की लगान है। 20 साल से कोई भारतीय फ़िल्म ऑस्कर अवॉर्ड्स के नॉमिनेशन तक में शामिल नहीं हो पायी है। 93वें एकेडमी अवॉर्ड्स अगले साल अप्रैल में आयोजित होंगे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021