मुंबई। 'बाहुबली- द बिगिनिंग' की रिलीज़ के बाद फ़िल्म के जिस किरदार को सबसे ज़्यादा चर्चा मिली, वो कटप्पा है। वफ़ादार, ईमानदार और शक्तिशाली योद्धा कटप्पा को फ़िल्म के क्लाइमेक्स में बाहुबली की हत्या करते देखना शॉकिंग था। इसीलिए 2015 में सोशल मीडिया में सबसे ज़्यादा यही सवाल पूछा गया- कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा?

इसका जवाब बाहुबली- द कंक्लूज़न में मिला, जो 2017 की सबसे कामयाब भारतीय फ़िल्म है। 28 अप्रैल को रिलीज़ हुई एसएस राजामौली निर्देशित इस फ़िल्म में लीड रोल प्रभास, अनुष्का शेट्टी, राम्या कृष्णन और राणा दग्गूबटी ने निभाये। मगर, जो किरदार किंवदंती बना, वो कटप्पा का ही था। कटप्पा का किरदार दक्षिण भारतीय कलाकार सत्यराज ने निभाया था। ये किरदार इतना लोकप्रिय हुआ कि कटप्पा का नाम घर-घर तक पहुंच गया और सत्यराज की पहचान हिंदी सिनेमा के उन दर्शकों के बीच भी कायम हो गयी, जिनका दक्षिण भारतीय सिनेमा से सिर्फ़ इतना रिश्ता है कि टीवी पर आने वाली डब फ़िल्में देखते हैं, लेकिन ये पहला मौक़ा नहीं था, जब बाहुबली- द बिगिनिंग में हिंदी दर्शकों ने सत्यराज को देखा।

यह भी पढ़ें: इन बॉलीवुड फ़िल्मों में छिपी है हनीप्रीत और गुरमीत की कहानी

इससे पहले दर्शक उन्हें रोहित शेट्टी की फ़िल्म चेन्नई एक्सप्रेस में देख चुके थे, जिसमें सत्यराज ने दीपिका पादुकोण के करेक्टर के पिता का रोल निभाया था। इस किरदार का नाम दुर्गेश्वर था, जो बहुत बड़ा डॉन था। सत्यराज का ये हिंदी सिनेमा में डेब्यू था। 'चेन्नई एक्सप्रेस' हिट रही, लेकिन सत्यराज को हिंदी दर्शकों के बीच लोकप्रियता नहीं मिली थी।

यह भी पढ़ें: पद्मावती की राह नहीं आसान, हर क़दम पर मिलेगी बाहुबली से चुनौती

सत्यराज दक्षिण भारतीय सिनेमा के वेटरन एक्टर हैं। तमिल, तेलगू, कन्नड़ और मलयालम भाषा की कई फ़िल्मों में वो बतौर चरित्र अभिनेता नज़र आते रहे हैं। सत्यराज उनका स्क्रीन नेम है। उनका असली नाम रंगराज सुबैया है। 3 अक्टूबर सत्यराज का जन्म दिन होता है और उन्होंने उम्र का 62वां पड़ाव पार कर लिया है। साउथ सिनेमा में उन्हें कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। सत्यराज ने 1986 की फ़िल्म मिस्टर भरत में रजनीकांत के पिता का किरदार निभाया था। उस समय वो रजनीकांत से 4 साल छोटे थे। वैसे दर्शक कटप्पा से एक बार फिर जल्द मिलने वाले हैं। बाहुबली- द कंक्लूज़न का 8 अक्टूबर को टीवी पर प्रीमियर होने वाला है।

Posted By: Manoj Vashisth