नई दिल्ली, जेएनएन। जम्पिंग जैक के उपनाम से हिंदी सिनेमा में मशहूर कलाकार जीतेंद्र और शोभा कपूर के बेटे तुषार कपूर ने अपने फ़िल्मी करियर में भले ही पिता जैसी शोहरत हासिल ना की हो, मगर निजी ज़िंदगी में लिये गये एक साहसिक फ़ैसले ने उन्हें अपनी पीढ़ी के दूसरे सितारों से अलग खड़ा कर दिया। 2016 में कुंवारे तुषार ने सरोगेसी के ज़रिए सिंगल पैरेंट होने का क़दम उठाकर सबको चौंका दिया था।

मनोरंजन इंडस्ट्री में सिंगल पैरेंट्स के मामले तो बहुत मिल जाएंगे, मगर शादी किए बिना सरोगेसी के ज़रिए पिता बनने का सम्भवत: यह पहला चर्चित मामला है। हालांकि, इसके बाद उनकी बड़ी बहन एकता कपूर ने भी भाई के क़दमों को फॉलो करते हुए आईवीएफ के ज़रिए सिंगल मदर बनने का फ़ैसला किया। तुषार के बेटे का नाम लक्ष्य है, जबकि एकता के बेट का नाम रवि कपूर है, जो उनके पिता जीतेंद्र का असली नाम है। 

बहरहाल, 20 नवम्बर 1976 को जन्मे तुषार ने अपना फ़िल्मी करियर 2001 में आयी फ़िल्म मुझे कुछ कहना है से शुरू किया था, जिसमें करीना कपूर उनकी हीरोइन थीं और सतीश कौशिक ने इसे निर्देशित किया था। कुछ सालों तक तुषार फ़िल्मों में केंद्रीय भूमिकाओं में नज़र आये, मगर व्यावसायिक सफलता ना मिलने पर वो सहायक भूमिकाओं की तरफ़ मुड़ गये और इन फ़िल्मों में काफ़ी चर्चित और सफल रहे। 

 

 

 

 

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

A post shared by Tusshar (@tusshark89)

दिलचस्प बात यह है कि जब तक तुषार अपनी फ़िल्मों में संवाद बोलते रहे, उन्हें अपेक्षित सफलता नहीं मिली, मगर जैसे ही उनकी बोलती बंद हुई तुषार की लोकप्रियता आसमान को छूने लगी। रोहित शेट्टी की बेहद सफल फ्रेंचाइजी गोलमाल ने तुषार के करियर का रुख़ ही मोड़ दिया। इन फ़िल्मों में तुषार का किरदार बोल नहीं पाता। इसलिए संवादों अदायगी का उसका अपना ख़ास तरीक़ा है। तुषार ने इस किरदार और लहज़े को इतनी कामयाबी के साथ पकड़ा कि गोलमाल के सभी मुख्य किरदारों में सिर्फ़ यही किरदार दर्शकों के ज़हन में अटका रह जाता है। 

 

 

 

 

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

A post shared by Tusshar (@tusshark89)

तुषार ने अपने करियर अधिकतर रोमांटिक और एक्शन कॉमेडी फ़िल्में की हैं। कॉमिक फ़िल्मों में उन्हें ख़ासी सफलता भी मिली। हालांकि, कुछ संजीदा किस्म के किरदार भी तुषार ने निभाये, जिन्हें नोटिस किया गया। मसलन, राजकुमार संतोषी की फ़िल्म ख़ाकी, शोर इन द सिटी, शूटआउट एट लोखंडवाला, शूटआउट एट वडाला जैसी फ़िल्मों में उनके किरदारों को पसंद किया गया। 

 

 

 

 

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

A post shared by Tusshar (@tusshark89)

अक्षय कुमार और कियारा आडवाणी अभिनीत लक्ष्मी से तुषार प्रोड्यूसर भी बन गये हैं। यह फ़िल्म दिवाली से पूर्व 9 नवम्बर को डिज़्नी प्लस हॉटस्टार पर रिलीज़ हो चुकी है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021