नई दिल्ली, जेएनएन। एक्ट्रेस चित्रांगदा सिंह की एक्शन थ्रिलर फिल्म बाबूमोशाय बंदूकबाज 2017 में रिलीज हुई थी। ये फिल्म प्रोड्यूसर डायरेक्टर कुशान नंदी की थी। एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी स्टारर इस फिल्म ने भले ही बॉक्स ऑफिस पर धमाल न मचाया हो, लेकिन जब चित्रांगदा सिंह ने फिल्म के सेट से कुछ चौंकाने वाले खुलासे किए तो मानो जैसे हंगामा मच गया हो।

साल 2018 में जब #MeToo आंदोलन पूरे भारत में फैल रहा था और यौन उत्पीड़न के अपराधियों को बेनकाब करके उन्हें सामने लाया जा रहा था। उस समय चित्रांगदा ने बाबूमोशाय बंदूकबाज के सेट पर अपने साथ हुई एक बुरी घटना को शेयर कर सनसनी फैला दी थी। उन्होंने आरोप लगाया कि लखनऊ में शूट हुई इस फिल्म में एक उत्तेजक दृश्य को लेकर उन्हें परेशान किया गया था।

आईबी टाईम्स की रिपोर्ट के अनुसार, चित्रांगदा सिंह ने कहा था, “जब मैंने फिल्म (बाबूमोशाय बंदूकबाज) के लिए शूटिंग की, तो अचानक मुझे मुझसे नवाजुद्दीन के साथ एक इंटिमेट सीन शूट करने को बोला गया। निर्देशक मेरे पास आए और सीधे कहा कि 'अपना पेटीकोट उठाओ और...! मुझे तो मानो कुछ समझ ही नहीं आ रहा था कि हो क्या रहा है फिर मुझे नवाज के ऊपर बैठने को कहा गया तब मुझे समझ आया कि आखिर ये लोग मुझसे कराना क्या चाहते हैं।

चित्रांगदा ने आगे कहा कि,' तब तक मेरी आंखों में आंसू आ गए थे, लेकिन उन्होंने जोर देकर कहा कि मैं जैसा कहता हूं वैसा ही करती जाओ। क्योंकि मैं निर्देशक हूं। ऐसे कौन बात करता है? वह सिर्फ शोषण था। मैं नाराज थी, और मैं बाहर चली गई।'

चित्रांगदा सिंह ने अपनी बात बढ़ाते हुए कहा, "नवाज वहां थे, डीओपी (डायरेक्टर ऑफ फोटोग्राफी) वहां थीं, एक महिला निर्माता थीं लेकिन मेरे लिए कोई खड़ा नहीं हुआ। और सबसे बढ़कर, फिल्म की पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान, उन्होंने बहुत ही स्पष्ट रूप से कहा, 'हमें खुशी है कि वह चली गई क्योंकि हमें एक बेहतर रिप्लेसमेंट मिल गया। फिल्म के एक प्रमोशन कार्यक्रम के दौरान नवाज ने आगे बढ़कर एक बयान दिया कि 'हमने तो दो बार मजा कर लिए'।

दूसरी ओर, बाबूमोशाय बंदूकबाज के निर्देशक कुशान नंदी के बिजनेस पार्टनर किरण श्रॉफ ने इसके बारे में खुलकर बात की। उन्होंने कहा, 'मैं ऑन रिकॉर्ड कह कहा रहा हूं। चित्रांगदा सिंह के आरोप गलत हैं। इसे इस तथ्य में जोड़ें कि उसने तीसरे दिन से सेट पर देर से रिपोर्ट करना शुरू किया था। पिछले साल जब हमने पश्चिम बंगाल में उसके साथ एक कार्यक्रम की शूटिंग की थी, तो मुझे उससे कोई समस्या नहीं थी। होती तो मैं उसे लखनऊ नहीं लाता। चित्रांगदा ने नवाज और कुशान को मिलने के लिए बुलाया और स्क्रिप्ट में बदलाव के लिए कहा। उन्होंने कहा कि उनके सुझावों पर कोई समझौता नहीं किया जा सकता, नहीं तो वह फिल्म छोड़ देगी।' 

Edited By: Ruchi Vajpayee