मुंबई। वेटरन एक्टर धर्मेंद्र की पर्दे पर छवि भले ही एक हीमैन की हो, मगर असल ज़िंदगी में वो काफ़ी दरियादिल और इमोशनल हैं। अब धर्मेंद्र की दरियादिली की एक नई तस्वीर सामने आयी है। अपने संघर्ष के दिनों में मदद करने वाले एक मुस्लिम परिवार को धर्मेंद्र सफलता मिलने के बाद हज यात्रा पर भेजा था। सालों बाद इसका खुलासा वेटरन एक्टर ने सोशल मीडिया में किया है। 

धर्मेंद्र ने इस परिवार के साथ अपनी सालों पुरानी तस्वीर शेयर की है। धर्मेंद्र एक बच्ची को गोद में उठाये हुए हैं। तस्वीर के साथ धर्मेंद्र ने लिखा है- यादें लौट आयी हैं... फ़िल्मों से पहले, मैं मलेरकोटला में काम करता था। मोहम्मदीन और फ़ातिमा ने मुझे पर काफ़ी प्यार बरसाया था। वो हज जाना चाहते थे। एक्टर बनने के बाद मैं उनके इस ख़्वाब को पूरा कर सका। मैं यह मौक़ा देने के लिए भगवान का शुक्रगुज़ार हूं। धर्मेंद्र के इस ट्वीट को कई यूज़र्स ने पसंद किया है और इस पर प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। बता दें कि मलेरकोटला पंजाब के संगरूर ज़िले में स्थित कस्बा है, जो लुधियाना से 50 किमी दूर स्थित है।

हिंदी सिनेमा में करियर शुरू करने से पहले धर्मेंद्र 1954-1955 के दौरान मलेरकोटला में नौकरी करते थे और यहीं से दोस्तों के साथ साइकिल पर लुधियाना घूमने जाते थे। द कपिल शर्मा में एक बार धर्मेंद्र ने बताया था कि  जब फ़िल्मफेयर मैगज़ीन में बिमल रॉय और गुरु दत्त का एक फ़िल्म के लिए विज्ञापन देखा तब उन्होंने मलेरकोटला जाकर ही फोटो खिंचवाया था।

धर्मेंद्र ने यह प्रतियोगिता तो जीत ली थी, मगर जिस फ़िल्म के लिए विज्ञापन दिया गया था, वो नहीं बन सकी। बाद में धर्मेंद्र ने अर्जुन हिंगोरानी की फ़िल्म दिल भी तेरा हम भी तेरे से 1960 में डेब्यू किया था। धर्मेंद्र अक्सर सोशल मीडिया के ज़रिए अपनी पुरानी यादों को फ़ैंस और फॉलोअर्स के साथ साझा करते रहते हैं। हाल ही में धर्मेंद्र बेटे सनी देओल के प्रचार के लिए पंजाब गये थे। सनी ने गुरदासपुर से बीजेपी के टिकट पर लोक सभा चुनाव लड़ा है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Manoj Vashisth