नई दिल्ली, जेएनएन। हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री या बॉलीवुड फ़िल्म इंडस्ट्री में सोमवार को एक अप्रत्याशित घटना हुई। बॉलीवुड के 34 बड़े प्रोडक्शन हाउसेज़ और 4 संस्थाओं ने दो चैनलों के ख़िलाफ़ दिल्ली हाई कोर्ट में सिविल सूट दायर किया, ताकि न्यूज़ चैनलों पर बॉलीवुड की छवि बिगाड़ने से रोका जा सके।

ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी मीडिया हाउस के ख़िलाफ़ एक्शन लेने के लिए बॉलीवुड एकजुट हुआ हो। सूट फाइल करने वालों में बॉलीवुड की ख़ान तिकड़ी के अलावा अक्षय कुमार और अजय देवगन जैसे बड़े नाम शामिल हैं, जिनके प्रोडक्शन हाउसेज़ की ओर से यह वाद दायर किया गया है। हालांकि, निर्माता-निर्देशक राम गोपाल वर्मा ने इस कार्रवाई को विलम्बित और ठंडा करार दिया। 

रामू ट्विटर के ज़रिए काफ़ी अर्से से बॉलीवुड को एक्शन लेने के लिए कहते रहे हैं। ड्रग्स केस की जांच के दौरान जब बॉलीवुड को लेकर काफ़ी नकारात्मक कहा और दिखाया जा रहा था, तब भी राम गोपाल वर्मा ने एक्शन लेने की बात कही थी। अब उन्होंने ट्वीट करके कहा- बॉलीवुड की प्रतिक्रिया विलम्बित और ठंडी है। सभी शीर्ष लोगों का दिल्ली उच्च न्यायालय से शिकायत करना ऐसा है, जैसे स्कूली बच्चा अपने टीचर से कहे- टीचर, टीचर, वो अर्नब मुझे गाली दे रहा है।  

बॉलीवुड के दिल्ली हाई कोर्ट जाने के बाद से सोशल मीडिया में इसको लेकर बहस छिड़ी हुई है। सोमवार को इस ख़बर के आने के बाद से सोशल मीडिया में बॉलीवुड का बॉयकॉट करने की मुहिम भी चल पड़ी थी। वहीं, कंगना रनोट ने बॉलीवुड प्रोड्यूसर्स के रिएक्शन की तीख़ी आलोचना करते हुए एक बार फिर बॉलीवुड की तुलना गटर से की। 

बता दें, सुशांत सिंह राजपूत केस में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने ड्रग्स एंगल की जांच कर रहा है, जिसमें रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती को गिरफ़्तार किया गया था। लगभग एक महीने जेल में रहने के बाद रिया को 7 अक्टूबर को बॉम्बे हाई कोर्ट से जमानत मिल गयी थी। 

Edited By: Manoj Vashisth