मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

मुंबई। बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार आज बॉलीवुड के सबसे सक्सेसफुल एक्टर्स में से एक हैं। बॉक्स ऑफिस पर भी इनकी फ़िल्में आराम से 100 करोड़ का आंकड़ा पार कर लेती हैं। आपको बता दें की 9 सितम्बर को अपना जन्मदिन मनाने वाले अक्षय ने अपनी उम्र की हाफ सेंचुरी पूरी कर ली है और इस हाफ सेंचुरी में उन्होंने फ़िल्मी जगत को 26 साल दिए हैं। 

इन 26 सालों के लम्बे करियर में उन्होंने तकरीबन 150 फ़िल्मों में काम किया है। उन्होंने कई बार अपनी 'एक्टिंग इमेज' को पूरी तरह से बदल कर लोगों के सामने पेश किया है। हम आपको बताएंगे अक्षय की कुछ ऐसी फ़िल्में जिसके ज़रिये लोगों का उन्हें देखने का नजरिया बदल गया। आप यह भी कह सकते हैं कि ये फ़िल्में अक्षय के करियर की 'इमेज टर्निंग पॉइंट' थीं।

यह भी पढ़ें: ‘50’ का खिलाड़ी: अक्षय कुमार कैसे बने बॉलीवुड के खिलाड़ी, जानिए दिलचस्प कहानी

संघर्ष

साल 1991में अक्षय ने फ़िल्म 'सौगंध' से अपना फ़िल्मी करियर शुरू किया था। इसके बाद उन्होंने 'खिलाड़ी', 'वक़्त हमारा है', 'मोहरा', 'मैं खिलाड़ी तू अनाड़ी' और 'अफ़लातून' जैसी फ़िल्मों से अपनी हीरो वाली इमेज बनाई। इसके बाद साल 1999 में आई 'संघर्ष', जिसमें अक्षय ने अपनी एक्टिंग का एक अलग ही रंग पेश किया। इस फ़िल्म में अक्षय ने प्रोफ़ेसर अमन वर्मा का किरदार निभाया था। आशुतोष राणा का किरदार लज्जा शंकर अमर होना चाहता जिसके लिए वो बच्चों की बलि देता था। इस बड़े गुनाह को रोकने के लिए अक्षय सीबीआई ऑफिसर बनीं प्रीति ज़िंटा की मदद करते हैं। इस फ़िल्म को देखने के बाद लोगों को पता चला कि अक्षय 'हीरो' ही नहीं सुपरहीरो भी हैं।

हेरा फेरी 

'संघर्ष' के बाद अक्षय फिर अपने हीरो वाली इमेज से लोगों को इम्प्रेस करते रहे। इसके  बाद अक्षय ने फ़िल्म 'हेरा फेरी' के ज़रिये लोगों को यह बताया कि वो कॉमेडी में भी मास्टर हैं। सुनील शेट्टी और परेश रावल के साथ अक्षय की यह फ़िल्म सिचुएशनल कॉमेडी-थ्रिलर थी। राजू (अक्षय), श्याम(सुनील) और बाबुराव(परेश), इन किरदारों को लोग आज भी नहीं भूले हैं। इस फ़िल्म के बाद अक्षय की कॉमेडी टाइमिंग्स के सभी कायल हो गए।

अजनबी

फिर वो दौर आया जब अक्षय ने एक बार फिर अपनी एक्टिंग स्किल का एक नया रूप पेश किया और वो था 'नेगेटिव'। साल 2001 में अक्षय ने बिपाशा बसु, बॉबी देओल और करीना कपूर(ख़ान) के साथ सस्पेंस थ्रिलर फ़िल्म 'अजनबी' में काम किया। बिपाशा के साथ मिलकर इस फ़िल्म में अक्षय बॉबी और करीना को ठग लेते हैं और उनकी सारी प्रॉपर्टी अपने नाम कर लेते हैं। अक्षय को अपने इस नेगेटिव किरदार के लिए बहुत तारीफ़ें मिलीं।

यह भी पढ़ें: अक्षय कुमार के बारे में ये 5 दिलचस्प बातें नहीं जानते होंगे आप, देखें तस्वीरें

स्पेशल 26 

इसके बाद अक्षय ने हर तरह के शेड्स को ऑनस्क्रीन लाना शुरू किया। 'हीरो', 'कॉमेडी' और 'नेगेटिव'...हर शेड्स में लोग इन्हें पसंद करने लगे। फिर आई रियल लाइफ इवेंट पर बेस्ड फ़िल्म 'स्पेशल 26'। नाम की तरह यह फ़िल्म भी अक्षय के फ़िल्मी करियर के लिए काफ़ी स्पेशल थी। यह एक पीरियड क्राइम थ्रिलर फ़िल्म थी जिसमें अक्षय का किरदार एक ऐसे इंसान का था जो इनकम टैक्स ऑफिसर बन कर लोगों को ठगा करते थे। इस फ़िल्म के लिए अक्षय को क्रिटिक्स ने बहुत सराहा और यह फ़िल्म भी उनके करियर का 'इमेज टर्निंग पॉइंट' बन गई।

एयरलिफ्ट और रुस्तम 

ये थीं अक्षय कुमार की वो फ़िल्में जिनके लिए अक्षय को बेस्ट एक्टर की केटेगरी में नेशनल अवार्ड मिला था। साल 2016 में जनवरी में आई 'एयरलिफ्ट' 1990 में हुए खाड़ी युद्ध की कहानी थी जिसमें अक्षय कुवैत के नामी बिज़नेसमैन बनते हैं जिन्होंने युद्ध के दौरान अकेले अपने परिवार सहित 1,70,000 भारतियों को भारत सुरक्षित लाया था। वहीं, इसी साल रिलीज़ हुई फ़िल्म 'रुस्तम' एक पीरियड क्राइम थ्रिलर फ़िल्म थी। यह फ़िल्म नौसेना अधिकारी के एम् नानावटी की जीवनी पर आधारित थी। इस फ़िल्म में के लिए अक्षय को 64वां नेशनल फ़िल्म अवार्ड मिला।

Posted By: Shikha Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप