रुपेशकुमार गुप्ता, मुंबई। अजय देवगन का मानना है कि यदि देश में बाहुबली जैसी फिल्में लगातार बनती रही तो हमारी फिल्में दर्शकों को और अधिक संख्या में सिनेमाघरों तक लाने में सफ़ल होंगी।

अजय देवगन ने मुंबई में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि वह कई बार जब किसी छोटी फिल्म के बारे में सुनते है तो मानते है कि वह उस फिल्म को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर देख लेंगे लेकिन जब बात फिल्म 'बाहुबली' की आती हैं तो ऐसा सिनेमा आप सिनेमाघर में ही देखना चाहेंगे क्योंकि उस फिल्म का स्केल और अनुभव सिनेमाघरों में ही किया जा सकता है। अजय देवगन ने आगे कहा कि वह मानते है कि अब डिजिटल के जमाने में सिनेमाघरों तक दर्शकों को लाने के लिए बाहुबली जैसी फ़िल्में बनानी होगी, जोकि एक मुश्किल कार्य भी है। हालाँकि उन्होंने आगे यह भी कहा कि वह मानते है कि सिनेमाघर कभी भी बंद नहीं होंगे। ऐसे में उन्होंने कंटेंट पर ध्यान दिलाते हुए कहा कि आप दर्शकों को कंटेंट के नाम पर कुछ भी नहीं परोस सकते क्योंकि उनके पास मनोरंजन के लिए बहुत से विकल्प हो गए है। ऐसा सिनेमा बनाना होगा जो दर्शकों को सिनेमाघरों तक खींचकर ले आएं। जैसा की फिल्म 'बाहुबली' के निर्देशक एस एस राजमौली ने कर दिखाया है और इसी कारण वो फिल्म इतना अच्छा व्यापार बॉक्स ऑफिस पर कर पाई।

गौरतलब है कि अजय देवगन की अभी हाल ही में फिल्म रेड आई थी। जिसे दर्शकों ने बहुत पसंद किया था। फिल्म 'रेड' में अजय देवगन के अलावा इलियाना डीक्रूज की भी अहम भूमिका थी।

यह भी पढ़ें: रजनीकांत और सलमान खान इन मामलों में हैं सेम-सेम, प्रभुदेवा से सुनिए

Posted By: Manoj Khadilkar