कोलकाता, जेएनएन। बंगाल में रविवार को चुनाव प्रचार के लिए आए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कूचबिहार जिले के शीतलकूची में एक दिन पहले हुई हिंसा की घटना के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को जिम्मेदार ठहराते हुए उन्हें आड़े हाथों लिया। नदिया जिले के शांतिपुर में रोड शो के बाद संवाददाताओं से बातचीत करते हुए शाह ने कहा कि कूचबिहार की घटना दीदी के भाषण का नतीजा है। ममता बनर्जी ने अपने भाषण में केंद्रीय बलों का घेराव करने के लिए लोगों को उकसाया था।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि उपद्रवियों ने सीआइएसएफ जवानों से राइफल छीनने की भी कोशिश की। शाह ने इस घटना पर दुख जताते हुए लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की। उन्‍होंने कहा कि ममता सिर्फ चार लोगों को श्रद्धांजलि देती हैं। आनंद बर्मन को दीदी ने श्रद्धांजलि नहीं दी। ममता दीदी मौत में भी तुष्टीकरण और वोट की राजनीति कर रही हैं। दीदी ने राजनीति को कितना नीचे गिराया है, यह इसका एक उदाहरण है।

शाह ने कहा कि हमें आनंद बर्मन के साथ चार और लोगों की मौत का दुख है। ममता बनर्जी ने आनंद की मौत पर ना एक बयान दिया ना श्रद्धांजलि दी। गृह मंत्री ने कहा कि बंगाल में चुनाव के दौरान अब तक भाजपा के पांच कार्यकर्ताओं की मौत हो चुकी है। शाह ने कहा कि दो मई को बंगाल में कमल खिल कर रहेगा।

मालूम हो कि पश्चिम बंगाल के कूचबिहार जिले में शनिवार को चौथे चरण के मतदान के दौरान स्थानीय लोगों द्वारा हमला किए जाने के बाद सीआईएसएफ के जवानों ने अपने बचाव में कथित तौर पर गोलियां चलाई जिसमें चार लोगों की मौत हो गई। रिपोर्टों के मुताबिक स्थानीय लोगों ने सीआईएसएफ जवानों से उनकी राइफलें छीनने की कोशिश की थी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक रैली में लोगों से मतदान करने में बाधा पैदा करने पर केंद्रीय बलों का घेराव करने के लिए कहा था। इसके बाद यह घटना घट गई। भाजपा इसे लेकर हमलावर है।