लखनऊ (जेएनएन)। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ा झटका सत्ता पर काबिज समाजवादी पार्टी को लगा है। पार्टी को अपने गढ़ में ही बड़ी पराजय का सामना करना पड़ा है। कन्नौज के साथ इटावा में ही पार्टी का अजेय किला ही ढह गया। इन दोनों जिलों में भाजपा ने छह में से चार जीत दर्ज की। 
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और सपा सांसद डिंपल यादव के गढ़ में भारतीय जनता पार्टी ने तीन में से दो सीट पर जीत दर्ज कर ली है। यहां छिबरामऊ में भाजपा की अर्चना पाण्डेय ने बसपा के ताहिर हुसैन को पराजित कर दिया। यहां पर समाजवादी पार्टी के अरविंद यादव को तीसरी पायदान मिली। तिर्वा से भाजपा के कैलाश राजपूत के सामने सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी के मंत्री विजय बहादुर पाल टिक नहीं सके। बसपा से विजय सिंह विद्रोही ने भी लड़ाई लड़ी लेकिन बाहर हो गए। कैलाश राजपूत ने जीत दर्ज की है। समाजवादी पार्टी को एक सीट मिली है। कन्नौज सदर सुरक्षित से सत्तारूढ समाजवादी पार्टी के अनिल दोहरे ने भाजपा के भाजपा के बनवारीलाल दोहरे को हराया। सपा को जीत सिर्फ लगभग ढाई हजार वोट से मिली।   
छिबरामऊ से भाजपा की अर्चना पाण्डेय ने बसपा के ताहिर हुसैन को 38,938 मतों से हराया। अर्चना को एक लाख 11,119 वोट मिले जबकि ताहिर हसन को 74,181 वोट मिले। सपा के अरविंद सिंह यादव को 73,740 वोट मिले हैं। तिर्वा से भाजपा के कैलाश राजपूत ने मंत्री विजय बहादुर पाल को पराजित किया। तीसरी पायदान पर बसपा के विजय सिंह विद्रोही रहे हैं। कन्नौज सदर (सुरक्षित) 198 नंबर सीट से सत्तारूढ समाजवादी पार्टी के अनिल दोहरे ने भाजपा के बनवारीलाल दोहरे ने 2440 मत से हराया। सपा को 99,635 तथा भाजपा को 97,181 वोट मिले हैं।
इटावा को समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के साथ ही सीएम अखिलेश यादव का गृह जनपद है। यहां पर विधानसभा की तीन सीट में से दो पर भारतीय जनता पार्टी ने जीत दर्ज की। यहां पर शिवपाल सिंह यादव ही समाजवादी पार्टी को जीत दिला सके। इटावा सदर ने भाजपा की सरिता भदौरिया व भरथना से सावित्री कठेरिया ने जीत दर्ज की। जसवंतनगर से शिवपाल सिंह यादव ने भाजपा के कैंडीडेट को हराया।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस