जयपुर, जागरण संवाददाता। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे चार अगस्त से सुराज गौरव यात्रा पर निकलेंगी। इस दौरान वह राज्य की 200 में से 165 विधानसभा क्षेत्रों में जाएंगी। एक दिन में औसतन चार से पांच सभाएं करेंगी। इस दौरान 371 जगह यात्रा का स्वागत होगा।

गौरव यात्रा के दौरान राजे 40 दिन में 6 हजार 54 किलोमीटर की यात्रा करेंगी। यह उनकी सबसे कम समय में की जाने वाली सबसे लंबी चुनावी यात्रा होगी। राजस्थान में वसुंधरा ने अब तक तीन यात्राएं की है। 2003 में उन्होंने परिवर्तन यात्रा की थी। इसके बाद सूबे में भाजपा ने 120 सीटें जीती थी। 2008 में सुराज संकल्प यात्रा की और पार्टी ने 163 सीटें हासिल की।

ये दोनों यात्राएं अलग-अलग चरणों में चार से पांच माह तक चली थी। इस बार भी राजे ने अप्रैल में ही यात्रा का कार्यक्रम तय किया था, लेकिन शीर्ष नेतृत्व से उन्हें मजूंरी नहीं मिली। कर्नाटक चुनाव तथा राजस्थान के प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति न हो पाने से यात्रा टल गई। इसके चलते चुनाव से सिर्फ चार माह पहले उन्हें यात्रा निकालनी पड़ रही है और इसी के चलते उन्हें यात्रा के लिए समय बहुत कम मिल पाया है।

मुख्यमंत्री की यात्र के संयोजक गुलाब चंद्र कटारिया ने यात्रा का कार्यक्रम जारी करते हुए कहा, मुख्यमंत्री की यात्रा तीन संभाग (उदयपुर, जोधपुर और अजमेर) में सात-सात दिन के लिए जाएगी, क्योंकि इनमें विधानसभा सीटें ज्यादा है। इनके अलावा बीकानेर में यह यात्रा छह दिन, कोटा और भरतपुर संभाग में चार-चार दिन रहेगी। हालांकि जयपुर संभाग में सबसे ज्यादा सीटे है, लेकिन जयपुर चूंकि केंद्र है, इसलिए यहां अन्य कार्यक्रम किए जाएंगे।

सैनी ने कहा, अपनी उपलब्धियों को लेकर जनता के बीच जा रहे हैं: भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदनलाल सैनी का कहना है कि चार साल में हमारी सरकार ने जनहित के कार्यो से राजस्थान का गौरव बढ़ाया है। अब इन्हीं कामों को लेकर जनता के बीच जा रहे है।

माहौल बनाए रखने के लिए होंगे कई सम्मेलन : यात्र के बाद संभागवार पार्टी के अग्रिम संगठनों जैसे महिला मोर्चा, युवा मोर्चा, अनुसूचित जाति मोर्चा आदि के सम्मेलन और सरकारी योजनाओं के लाभार्थियों के सम्मेलन कराए जाएंगे ताकि चुनाव तक इन क्षेत्रों में पार्टी के लिए माहौल बना रहे।

धार्मिक स्थल से शुरुआत और अंत

राजे की इस यात्रा की शुरुआत राजसमंद जिले के सबसे बडे धार्मिक स्थलों में से एक चारभुजानाथ से होगी। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह इस मौके पर मौजूद रहेंगे। यात्रा का समापन 30 सितंबर को अजमेर जिले के पुष्कर में होगा। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बुलाने के प्रयास किए जा रहे है।

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप