भोपाल। राम मंदिर निर्माण को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। दिग्विजय सिंह के इस बयान पर भाजपा आक्रामक हो गई है। भाजपा ने कांग्रेस को राम विरोधी और हिंदू विरोधी बताया है।

गुना में अपने भाई लक्ष्मण सिंह का नामांकन फॉर्म भरवाने पहुंचे दिग्विजय सिंह ने मीडिया के सवाल के जवाब में कहा था कि विवादित स्थल पर मंदिर बनाने की क्या जरूरत है। यदि निर्माण करना है तो भाजपा को अदालत का निर्णय मानना चाहिए।

उन्होंने कहा था कि आरएसएस को लोकतंत्र में भरोसा नहीं है। हिंदुत्व का धर्म से कोई वास्ता नहीं है। हिंदुत्व केवल राजनैतिक शब्द है। राम मंदिर को लेकर देशभर में चल रही चर्चा के बीच दिग्विजय सिंह के इस बयान ने सियासी पारा चढ़ा दिया है। सोशल मीडिया पर भी दिग्विजय सिंह का यह बयान दिनभर छाया रहा।

चुनावी समर में भाजपा ने दिग्विजय सिंह के इस बयान को राजनीतिक हवा दी है। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता और चुनाव के लिए मप्र के मीडिया प्रभारी बनाए गए संबित पात्रा ने कहा कि यही कांग्रेस का असली चेहरा है। कांग्रेस राम विरोधी और हिंदू विरोधी है। इस बयान की वजह से मंगलवार को दिग्विजय सिंह सोशल मीडिया पर खूब ट्रोल हुए।

राहुल मंदिर जा रहे हैं तो भाजपा के पेट में दर्द क्यों

दिग्विजय सिंह ने राहुल गांधी के मंदिर जाने पर भाजपा द्वारा पूछे गए सवालों को लेकर कहा कि यदि राहुल गांधी मंदिर जा रहे हैं तो भाजपा के पेट में क्यों दर्द हो रहा है। भाजपा धर्म की बात करती है लेकिन सिहंस्थ मेले में भी बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हुआ है। 

Posted By: Hemant Upadhyay

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप