भोपाल (मप्र), नईदुनिया स्टेट ब्यूरो। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि भाजपा मुझसे बौखलाई हुई है, क्योंकि उसे मेरी बेबाकी से डर लगता है। मैं जो बात करता हूं, खुलकर कहता हूं। उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चुनौती दी कि मेरे खिलाफ भ्रष्टाचार का एक भी मामला सामने लाएं। दिग्विजय सिंह रविवार को मीडिया से चर्चा कर रहे थे। सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान ने बिना प्रमाण मुझे देशद्रोही कहा, जिसके खिलाफ वे मानहानि का मुकदमा लगाने जा रहे हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि पाकिस्तानी एजेंसी आईएसआई से संबंध रखने वाले 14 लोगों में शामिल भाजपा के पांच कार्यकर्ताओं पर एनएसए नहीं लगाया और उनकी जमानत भी हो गई। इनमें बजरंग दल और भाजपा आईटी सेल के नेता भी हैं। सिंह ने नक्सलियों से संबंधों के आरोपों पर भी कहा कि कोई प्रमाण तो दें।

आरक्षण पर भाजपा-आरएसएस में वैचारिक मतभेद सिंह ने कहा कि आरक्षण को लेकर भाजपा और आरएसएस में वैचारिक मतभेद हैं। जहां पार्टी अध्यक्ष अमित शाह व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आरक्षण के पक्ष में बातें करते हैं तो आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत व केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी आर्थिक आधार पर आरक्षण को उचित बताते हैं। वहीं, एट्रोसिटी संशोधन पर सिंह ने कहा कि यह संसद में सर्वसम्मति से पारित हुआ है तो इसमें सभी पार्टियों से चर्चा की जाना चाहिए।

जनता से वसूले साढ़े दस लाख करोड़ सिंह ने कहा कि पेट्रोल-डीजल के माध्यम से सरकार ने करीब साढ़े दस लाख करोड़ रुपए जनता से ज्यादा वसूल लिए। उन्होंने कहा कि अगर सरकार केंद्रीय उत्पाद कर 2014 और वैट को 2003 के स्तर पर ले आए तो पेट्रोल-डीजल की कीमत 15 से 20 रुपए प्रति लीटर तक कम हो जाएगी।

Posted By: Ravindra Pratap Sing