नईदुनिया, भोपाल: मध्य प्रदेश में जुलाई में उज्जैन से शुरू हुई मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की जन आशीर्वाद यात्रा 48 विधानसभा क्षेत्रों में पहुंचे बिना ही खत्म हो गई है। जबलपुर में गुरुवार को जन आशीर्वाद यात्रा का आखिरी दिन था। सूत्रों के मुताबिक अब बची हुई विधानसभा सीटों पर मुख्यमंत्री चुनावी सभाएं करेंगे।

यात्रा के प्रभारी प्रभात झा ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटलजी के निधन और त्योहारों की वजह से यात्रा में कुछ रुकावट आई थी, इसलिए सभी सीटों तक नहीं पहुंच सके। जो सीटें बची हैं, उन पर भी मुख्यमंत्री किसी न किसी रूप में लोगों के बीच जाएंगे। जन आशीर्वाद यात्रा में मुख्यमंत्री ने 43 दिन में 182 विधानसभा क्षेत्रों का दौरा किया है। इस दौरान उन्होंने 4100 किमी का सफर तय किया और 350 रथ और मंच सभाएं कीं। इस यात्रा में भोपाल जिले की सातों सीटों के अलावा छिंदवाड़ा की एक, रीवा की चार, श्योपुर की तीन से चार सीट सहित ग्वालियर, दतिया जिले की भी कुछ सीटें छूट गई हैं।

2013 में 200 सीटों तक पहुंचे थे शिवराज

2013 के विधानसभा चुनावों में भी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जन आशीर्वाद यात्रा निकाली थी। उस समय भी वे 230 विधानसभा क्षेत्रों तक नहीं पहुंच पाए थे। 2013 में शिवराज ने यात्रा के जरिये 200 विधानसभा क्षेत्रों का दौरा किया था।

 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप