रांची, [जागरण स्‍पेशल]। झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा की तैयारियों को परखने और चुनावी अभियान जन आशीर्वाद यात्रा का आगाज करने पहुंचे भाजपा के अध्‍यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह ने आखिरकार मुख्‍यमंत्री पद के लिए फिर से रघुवर दास का नाम आगे बढ़ाकर अच्‍छे-अच्‍छों की अक्‍ल ठिकाने लगा दी है। गाहे-बगाहे रघुवर दास के नेतृत्‍व पर सवाल उठाने वाले भाजपा नेता अब हाई कमान के इस फैसले के बाद बगलें झांकते नजर आ रहे हैं। उन्‍हें अब मुख्‍यमंत्री रघुवर दास के विरोध का कोई कारण या बची-खुची गुंजाइश भी नजर नहीं आ रही।

बीते लोकसभा चुनाव के समय अपने लेटर बम से झारखंड भाजपा की मुसीबत बढ़ा चुके रघुवर कैबिनेट के खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय के तेवर इस बार विधानसभा चुनाव के पहले भी कुछ हद तक बागी ही नजर आ रहे थे। ऐसे में कयास लगाया जा रहा था कि कहीं चुनाव के समय तक उनकी ओर से फिर कोई हंगामा न खड़ा कर दिया जाए। अब तक कई मौके-मोर्चे पर अपनी ही भाजपा सरकार और झारखंड के अफसरों को कठघरे में खड़ा कर चुके सरयू राय राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह के इस एलान के बाद संभव है कि बैकफुट पर आ जाएं।

झारखंड विधानसभा चुनाव की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

सीएम रघुवर दास ने माना, नहीं मिलते विचार

बीते दिन राजधानी रांची में एक अखबार के कार्यक्रम में बोलते हुए मुख्‍यमंत्री रघुवर दास ने माना था कि उनके विचार सरयू राय से नहीं मिलते। घर-घर रघुवर अभियान पर मंत्री सरयू राय की आपत्ति से जुड़े सवाल पर सीएम ने कहा कि भाजपा एक लोकतांत्रिक पार्टी है। यहां हर किसी को अपना विचार रखने की पूरी छूट है। ऐसे में सरयू राय को अपनी बात रखने का पूरा अधिकार है। सीएम ने इस कार्यक्रम में कहा कि वे सबको मिलाकर साथ चलने में विश्‍वास रखते हैं।

सरयू राय ने एक पर एक तीन ट्वीट कर साधा था निशाना

झारखंड के चुनाव प्रभारी ओम माथुर और सह प्रभारी नंद किशोर यादव की रणनीति पर अमल करते हुए हाल में ही भाजपा ने राष्‍ट्रीय स्‍तर पर चलाए गए घर-घर मोदी अभियान के तर्ज पर घर-घर रघुवर चुनावी अभियान शुरू किया है। इस क्रम में मंत्री सरयू राय ने सामने से तो कुछ नहीं कहा, लेकिन उन्‍होंने एक के बाद एक ट्वीट कर रघुवर दास की मुसीबतें बढ़ा दीं।

बीते दिन एक के बाद एक ट्वीट करते हुए सरयू राय ने मुख्‍यमंत्री रघुवर दास के नाम के साथ शुरू किए गए इस महती अभियान पर अप्रत्‍यक्ष रूप से करारा तंज कसा। उन्‍होंने लिखा- बढ़ें मिलाकर क़दम क़दम । पहले भाजपा बाद में हम ।। अपने दूसरे ट्वीट में सरयू राय ने लिख्‍ाा कि - भाजपा, मोदी, कमल निशान । हो झारखंड या हिन्दुस्तान ।। इसी तरह सरयू राय ने अपने तीसरे और आखिरी ट्वीट में इस अभियान को पूरी तरह व्‍यक्ति विशेष पर आधारित बताते हुए सीधी नसहीत दी और लिखा - भाजपा कार्यकर्ता की पहचान । सिर माथे पर कमल निशान ।। घर घर भाजपा, घर घर कमल । बाद में मैं, पहले दल ।।

झारखंड विधानसभा चुनाव की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप