रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Assembly Election 2019 - विधानसभा चुनाव 2019 में झाविमो ने 2014 की ही तरह राजनीति के नए चेहरों पर ही दांव खेला है। झाविमो ने अबतक कुल 40 प्रत्याशियों की जो दो सूची जारी की है, उनमें से सिर्फ दो पोड़ैयाहाट के वर्तमान विधायक प्रदीप यादव तथा मांडर के पूर्व विधायक बंधु तिर्की ने ही विधानसभा का मुंह देखा है। दोनों राज्य के मंत्री भी रह चुके हैं। पिछली बार झाविमो ने जिन नए चेहरों पर दांव लगाया था, उनमें से गणेश गंझू, आलोक चौरसिया, रणधीर सिंह, अमर बाउरी सरीखे नेताओं ने जीत हासिल की थी।

बताते चलें कि राज्य के सभी 81 विधानसभा क्षेत्रों से चुनाव लडऩे की घोषणा करने के बाद झाविमो ने यह उम्मीद पाल रखी थी कि पार्टी में महागठबंधन के विक्षुब्धों की टोली का जुटान होगा। इससे इतर विक्षुब्धों की यह टोली एक-एक कर आजसू और झामुमो में शिफ्ट करती चली गई। लिहाजा झाविमो ने ऐसे कई उम्मीदवारों तक को चुनाव मैदान में बैटिंग करने की छूट दे डाली, जिन्होंने महज दो-चार दिन पहले झाविमो का दामन थामा था। अब राजनीतिक इन नए खिलाडिय़ों के बूते झाविमो को चुनावी वैतरणी पार करने में कितनी सफलता मिलेगी, यह वक्त ही बताएगा।

चुनाव प्रबंधन के लिए झाविमो ने गठित की आठ कमेटियां

झाविमो ने विधानसभा चुनाव 2019 के कुशल प्रबंधन व संचालन के लिए आठ कमेटियां गठित की हैं। इन कमेटियों में झाविमो के 30 पदधारी शामिल किए गए हैं। विनोद शर्मा को मुख्य चुनाव संचालक बनाया गया है। झाविमो ने घोषणा पत्र कमेटी में श्रीराम दूबे, सुंदेश्वर मुंडा, आश्रिता कुजूर और सुनीता सिंह, हेलीकॉप्टर उड़ान संचालन, प्रोटोकॉल व इंधन आपूर्ति कमेटी में भूपेन्द्र सिंह, जीतेन्द्र कुमार रिंकू, अजीत उपाध्याय, अलाउद्दीन सुरेश कुमार शर्मा,अमित सिंह, इंदुभूषण गुप्ता, कुणाल शाहदेव, नीरज सिंह व  राहुल शाहदेव शामिल किए गए है।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप