रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Election 2019 Phase 2 Voting झारखंड विधानसभा चुनाव के तहत दूसरे चरण की 20 सीटों पर मतदान में गांवों के वोटर शहरी मतदाताओं को सबक सिखा गए। हर बार की तरह इस चुनाव में भी अपने मताधिकार को लेकर शहरी वोटर जहां उदासीन रहे, वहीं नक्सल प्रभावित क्षेत्र होते हुए भी गांवों के वोटरों ने कामकाज के बीच अपने अधिकार का उपयोग किया। शहरी वोटरों की उदासीनता के कारण ही जमशेदपुर पूर्वी तथा जमशेदपुर पश्चिमी जैसे शहरी क्षेत्रों के अलावा सरायकेला में मतदान पिछले विधानसभा चुनाव की अपेक्षा काफी कम हुआ।

जमशेदपुर पूर्वी में लगभग चार तथा जमशेदपुर पश्चिमी में पांच फीसद कम मतदान हुआ। सरायकेला में तो लगभग 12 फीसद कम मतदान हुआ। दूसरी ओर सिसई और तोरपा जैसे ग्रामीण क्षेत्रों में मतदान फीसद में लगभग तीन फीसद की वृद्धि हुई। इधर, दूसरे चरण की इन सीटों पर मतदान फीसद घटने की वजह चुनाव आयोग को भी समझ में नहीं आ रहा है।

आयोग ने मतदान का प्रतिशत बढ़ाने के लिए स्वीप के तहत कई कार्यक्रम संचालित किए थे। इसके लिए सभी जिलों को पर्याप्त फंड उपलब्ध कराए गए थे। मतदाताओं की सुविधाओं के लिए भी पूरा ध्यान रखने का प्रयास किया गया। इसके बावजूद मतदान फीसद घटने से इस कार्यक्रम के संचालन पर सवाल उठता है।

लोस चुनाव की तुलना में मांडर छोड़ सभी में मतदान कम

इसी साल मार्च-अप्रैल में हुए लोकसभा चुनाव से तुलना करें तो मांडर को छोड़कर सभी विधानसभा क्षेत्रों में मतदान फीसद घटा है। ओवरऑल बात करें तो लोकसभा चुनाव में इन विधानसभा क्षेत्रों में 67.97 फीसद मतदान हुआ था। इस बार 64.39 फीसद ही मतदान हुआ। मतदान में अधिक कमी सरायकेला, जमशेदपुर पूर्वी तथा जमशेदपुर पश्चिमी में ही आई है।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस