रांची, राज्य ब्यूरो। पलामू में मतदान केंद्र पर पिस्तौल लहराकर चर्चा में आए पूर्व मंत्री और डालटनगंज विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी केएन त्रिपाठी ने सोमवार को अचानक रांची में संवाददाता सम्मेलन की घोषणा कर दी। कांग्रेस की पूरी सीनियर टीम राहुल गांधी के कार्यक्रम को सफल बनाने में जुटी हुई थी और इस बीच प्रेस वार्ता की सूचना मात्र से सभी परेशान हो गए। आनन-फानन में इसकी सूचना प्रदेश कांग्रेस प्रभारी आरपीएन सिंह को दी गई। इसके बाद उन्होंने कुछ सीनियर कांग्रेसियों को फटकार लगाई और उन्हें तत्काल प्रेस कांफ्रेंस रोकने की हिदायत दी। जिस माध्यम से प्रेस कांफ्रेंस की सूचना दी गई थी, उस माध्यम से रद होने की जानकारी भी नहीं मिली, लेकिन कांफ्रेंस को रद कर दिया गया। त्रिपाठी प्रेस वार्ता के माध्यम से पलामू घटना में अपने को निर्दोष साबित करने के लिए मीडिया के सामने आना चाह रहे थे।

बता दें कि कांग्रेस उम्‍मीदवार केएन त्रिपाठी ने पलामू जिले के चैनुपर थाना इलाके के कोशियारा गांव में मतदान केंद्र पर सरेआम पिस्‍तौल लहराया था। तब चुनाव आयोग ने इस मामले में कड़ा संज्ञान लिया था। पहले उन्‍हें हिरासत में लिया गया था, बाद में रिहा कर दिया गया था। इधर केएन त्रिपाठी ने इस मामले में खुद को निर्दोष बताते हुए कहा है कि भाजपा प्रत्‍याशी के समर्थकों ने उन पर हमला कर दिया। जिसके बाद त्रिपाठी ने सेल्‍फ डिफेंस में अपनी पिस्‍तौल निकाल कर हवा में लहराई। बाद में आयोग के निर्देश पर कांग्रेस उम्‍मीवार त्रिपाठी की पिस्‍तौल जब्‍त कर ली गई थी।

इधर मतदाताओं को डराने-धमकाने के मामले में कांग्रेस प्रत्‍याशी केएन त्रिपाठी पर एफआइआर दर्ज कराई गई है। जबकि केएन त्रिपाठी ने भी भाजपा प्रत्‍याशी आलोक चौरसिया समेत उनके दर्जनभर समर्थकों पर जानलेवा हमला करने का केस दर्ज कराया है।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस