रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Assembly Election 2019 - लोकसभा चुनाव की तरह विधानसभा चुनाव में भी इस्तेमाल होने वाले इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) के मूवमेंट की मोबाइल बेस्ड जीपीएस से ट्रैकिंग की जाएगी। इसे लेकर मंगलवार को सभी जिला सूचना पदाधिकारियों को इस सिस्टम की बारीकियों से अवगत कराया गया।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय में आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम में अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी शैलेश कुमार चौरसिया ने कहा कि ईवीएम को ले जाने के लिए सेक्टर मजिस्ट्रेट के वाहन में जीपीएस (ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम) लगाया जाएगा। मतदान केंद्र तक ईवीएम ले जाने तथा मतदान के बाद वापस लाने के दौरान इसकी ट्रैकिंग होगी। मतदान के दिन आवश्यकता पडऩे पर लगाए जाने वाले रिजर्व ईवीएम के मूवमेंट की भी जीपीएस ट्रैकिंग की जाएगी।

मोबाइल एप के माध्यम से ईवीएम के मूवमेंट की ट्रैकिंग हो सकेगी। यदि ईवीएम ले जा रहे सेक्टर मजिस्ट्रेट का वाहन निर्धारित रूट से डायवर्ट होता है, तो इसकी तुरंत जानकारी मिल सकेगी तथा सेक्टर मजिस्ट्रेट को अविलंब इसकी सूचना दी जाएगी, ताकि वे अपने निर्धारित मार्ग पर लौट सकें। ईवीएम की जीपीएस ट्रैकिंग के लिए सभी जिलों में कंट्रोल रूम बनाने की भी बात कही गई।

लोकेशन, रूट के अलावा स्पीड का भी चलेगा पता

कार्यक्रम में बताया गया कि मोबाइल बेस्ड जीपीएस ट्रैकिंग के माध्यम से रिजर्व ईवीएम के परिवहन को लेकर सेक्टर मजिस्ट्रेट के वास्तविक लोकेशन, वाहन की गति, इस्तेमाल किए जाने वाले एंड्रॉयड फोन की बैट्री के चार्ज की स्थिति की भी जानकारी मिलती रहेगी। यह भी पता चलेगा कि निर्धारित रूट में जा रहे वाहनों का स्टॉपेज कहां और कितने समय के लिए हुआ। इसके लिए सभी सेक्टर मजिस्ट्रेट को मूवमेंट के दौरान अपने मोबाइल फोन को बंद नहीं करने का निर्देश दिया गया है।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस