रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Assembly Election 2019 - विधानसभा चुनाव की घोषणा होने से ठीक पहले कांग्रेस ने जनता से कई लुभावने वादे किए हैं। बुधवार को रांची के विधानसभा मैदान में आयोजित दक्षिणी छोटानागपुर प्रमंडलीय जन आक्रोश रैली में पार्टी के दिग्गज नेताओं ने  वादों की झड़ी लगा दी। किसानों की कर्ज माफी से लेकर हर घर को नौकरी देने, नौकरी नहीं देने पर भत्ता देने जैसे लोक-लुभावन वादे किए गए। यह बताने का प्रयास भी किया गया कि वर्तमान सरकार की नीतियों के कारण जनता में आक्रोश है।

आदिवासी नेताओं ने सीएनटी और भूमि अधिग्रहण कानून का मामला उठाते हुए आदिवासियों में आक्रोश होने की बात कही। रैली में प्रदेश नेताओं के वादों का समर्थन करते हुए पार्टी के प्रदेश प्रभारी आरपीएन सिंह ने कहा कि कांग्रेस गठबंधन की सरकार बनने पर हर घर को नौकरी नहीं तो भत्ता दिया जाएगा। उन्होंने वर्तमान सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इस सरकार के मंत्री ही सरकार पर घोटालों के आरोप लगाते हैं। कहा, मुख्यमंत्री रघुवर दास, बेइमानों के खास हैं।

अपने जन आशीर्वाद यात्रा में कांग्रेस के विरुद्ध भद्दी-भद्दी बातें करते हैं और उनके ही राज्य छत्तीसगढ़ के एक विधायक ऐसा कर छत्तीसगढ़ को बदनाम नहीं करने की नसीहत देते हैं। सवाल उठाया कि मुख्यमंत्री जनता के समक्ष आशीर्वाद लेने जाते हैं या कांग्रेस को गालियां देने जाते हैं? कार्यकर्ताओं से वर्तमान सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान करते हुए कहा भाजपा झारखंड में 65 पार का नारा दे रही है, लेकिन यहां की जनता महाराष्ट्र और हरियाणा की तरह 25 के पार नहीं होने देगी।

इससे पहले, प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव ने सरकार बनने पर किसानों का कर्ज माफ करने, छह माह में सभी रिक्त पदों को भरने, नियमित छात्रवृत्ति देने तथा भ्रष्टाचार रहित शासन देने का वादा किया। उन्होंने गांवों में टूटी-फूटी सड़कों, नदारद बिजली तथा पानी नहीं होने का हवाला देते हुए कहा कि इससे जनता में सरकार के प्रति आक्रोश है। सीएनटी को खत्म करने के प्रयास से आदिवासियों में रोष है। कहा, सरकार भ्रष्टाचार पर जीरो टोलरेंस की बात करती है, जबकि कोई कार्यालय ऐसा नहीं है जहां घूसखोरी नहीं है। उरांव ने गिरिडीह में मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा में बच्चों को खड़ा किए जाने पर सवाल उठाया।

लुटेरी, अत्याचारी सरकार से मुक्ति का समय : सुबोधकांत

पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने कहा कि विपक्षी एकता से रघुवर सरकार पर ऐसा प्रहार किया जाए ताकि इसे छत्तीसगढ़ में भी जगह नहीं मिले। चुनाव में यह आक्रोश बरकरार रहे ताकि लुटेरी, हत्यारी और अत्याचारी सरकार से मुक्ति पाई जा सके। कहा, झारखंड पहला राज्य है जहां से मॉब लींचिंग शब्द की शुरुआत हुई। यहां दो दर्जन किसानों ने आत्महत्या की। तीन दर्जन लोग भूख से मर गए। वहीं 14 हजार स्कूल बंद कर दिए गए।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप