रांची, राज्य ब्यूरो। आगामी दिल्ली विधानसभा चुनाव से अनिवार्य सेवा देनेवाले कर्मियों को भी पोस्टल बैलेट से मतदान करने की सुविधा बहाल की जाएगी। मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने गुरुवार को कहा कि इसे लेकर लगातार मंथन चल रहा है कि कौन-कौन सी सेवाएं अनिवार्य श्रेणी में आएंगी। आयोग ने पहली बार झारखंड विधानसभा चुनाव से दिव्यांग तथा 80 वर्ष से अधिक आयु के मतदाताओं के लिए यह सुविधा बहाल की है। हालांकि, पायलट प्रोजेक्ट के तहत अभी सात विधानसभा क्षेत्रों बोकारो, धनबाद, देवघर, पाकुड़, जामताड़ा, गोड्डा तथा राजमहल में ही इसे लागू किया गया है।

टीएन शेषन की स्मृति में विजिटिंग चेयर

भारत निर्वाचन आयोग के अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र एवं निर्वाचन प्रबंधन संस्थान में भारत के पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त टीएन सेशन की स्मृति में निर्वाचन अध्ययनों के प्रति अंंतर अनुशासनिक एप्रोच पर एक विजिटिंग चेयर स्थापित किया जाएगा। मुख्य निर्वाचन आयुक्त के अनुसार, पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त एन गोपालास्वामी को इस चेयर की मॉनीटङ्क्षरग की जिम्मेदारी दी जाएगी तथा यह अगस्त-सितंबर 2020 तक अस्तित्व में आ जाएगा। उन्होंने प्रथम मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुकुमार सेन की स्मृति में एक वार्षिक व्याख्यान कार्यक्रम आयोजित किए जाने की भी जानकारी दी।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस