रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Assembly Election 2019 - उम्मीदवारों की पिछली चार सूचियों में अपने वरिष्ठ नेता सरयू राय को दरकिनार करने वाली भाजपा अब खुद बैकफुट पर नजर आ रही है। राय के स्तर से कड़े कदम उठाए जाने के भाजपा के प्रमुख रणनीतिकारों को यह समझ नहीं आ रहा है कि करें क्या। राय के निष्कासन को लेकर भी भाजपा ऊहापोह में है। हालांकि, पार्टी के स्तर से यह स्पष्ट कर दिया गया है कि जब तक सरयू राय अपना नामांकन दाखिल नहीं कर देते, तब तक उन पर किसी भी तरह की अनुशासनात्मक कार्रवाई नहीं की जाएगी।

सरयू राय ने पिछले चौबीस घंटे में भाजपा को कई झटके दिए हैं। शनिवार को मीडिया के माध्यम से उन्होंने पार्टी से अनुरोध किया कि उन्हें टिकट न दिया जाए। वहीं, रविवार को मुख्यमंत्री रघुवर दास के खिलाफ जमशेदपुर पूर्वी से चुनाव लडऩे का एलान कर दिया। राय ने जमशेदपुर पश्चिमी से भी चुनाव लडऩे की बात कही। राय के स्तर से लगातार दिए जा रहे झटकों से भाजपा उबर नहीं पा रही है।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा अपना चुनाव छोड़कर रविवार को रांची पहुंचे। यहां उन्होंने चुनाव प्रभारी ओम प्रकाश माथुर से मुलाकात की। गिलुवा दोपहर दो बजे प्रदेश कार्यालय पहुंचे। यहां उन्होंने संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह व अन्य नेताओं से ताजा परिस्थितियों पर विमर्श किया। गिलुवा ने एक बार फिर दोहराया कि पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार के खिलाफ यदि कोई उतरता है, तो उसे छह साल के लिए निलंबित किया जाता है, यही पार्टी की व्यवस्था है।

उससे पहले किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं की जा सकती। गिलुवा का संकेत स्पष्ट था कि भाजपा जमशेदपुर पूर्वी से सरयू राय के नामांकन का इंतजार करेगी। इधर, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मीडिया से बातचीत तो की, लेकिन सरयू राय पर किसी भी तरह की टिप्पणी से इन्कार किया।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप