नई दिल्ली, जेएनएन। विवादित बयान के मामले में भाजपा के दो स्टार प्रचारक केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर व सांसद प्रवेश वर्मा की मुश्किलें बढ़ गई है। चुनाव आयोग ने बुधवार को उन्हें भाजपा के स्टार प्रचारकों की सूची से हटाने का आदेश जारी किया। इसके बाद भाजपा ने अनुराग ठाकुर व प्रवेश वर्मा का नाम स्टार प्रचारकों की सूची से हटा दिया है। हालांकि, दोनों नेता चुनाव प्रचार कर पाएंगे पर इसका खर्च उम्मीदवारों के खाते में जुड़ेगा। ऐसे में प्रचार में उनकी सक्रियता कम होना तय है।

दोनों नेताओं पर चुनावी रैली के दौरान भड़काऊ और विवादित बयान देने का आरोप है। आयोग ने दोनों नेताओं को 28 जनवरी को नोटिस भेजकर जवाब मांगा था। उन्हें बृहस्पतिवार तक जवाब देने का वक्त दिया गया था। नोटिस जारी करने के एक दिन बाद चुनाव आयोग ने कार्रवाई करते हुए उनका नाम स्टार प्रचारकों की सूची से हटाने का आदेश दिया।

इस आदेश में कहा गया है कि दोनों नेताओं का नाम स्टार प्रचारकों की सूची से तत्काल प्रभाव से हटा दिया जाए। चुनाव आयोग कार्यालय के अनुसार, स्टार प्रचारों की रैली व चुनावी सभा करने पर उसका खर्च पार्टी के खाते में दर्ज होता है। उम्मीदवार के खाते में उसे शामिल नहीं किया जाता है। ऐसे में आयोग के आदेश के बाद दोनों नेता चुनाव प्रचार करते हैं तो उसका खर्च संबंधित उम्मीदवारों के खाते में दर्ज होगा। हर उम्मीदवार को इस विधानसभा चुनाव में अधिकतम 28 लाख खर्च करने का प्रावधान है। हर दिन का खर्च उन्हें रजिस्टर में दर्ज करना होता है।

अनुराग ठाकुर ने 27 जनवरी को रिठाला में रैली की थी। इस रैली का वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें उन्हें विवादित नारा लगवाते दिखाया गया है। कांग्रेस ने इसे वोटों के ध्रुवीकरण की कोशिश बताया था। इसके बाद चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस जारी किया था। वहीं सांसद प्रवेश शर्मा शाहीन बाग के मामले पर उत्तेजक बयान देने का आरोप है।

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस