नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। Delhi Election 2020: प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा के नेतृत्व में कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल मंगलवार को चुनाव आयोग से मिला और ज्ञापन सौंपा। पार्टी नेताओं ने भाजपा द्वारा सांप्रदायिक, धार्मिक उन्माद एवं हिंसा बढ़ाने वाले भाषणों तथा प्रचार सामग्री को लेकर विरोध दर्ज कराया। इस प्रतिनिधिमंडल में पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय माकन भी मौजूद थे।

पत्रकारों से बातचीत में सुभाष चोपड़ा ने कहा कि भाजपा ने विभिन्न समाचार पत्रों में झूठे और बदनाम करने वाले विज्ञापनों को प्रकाशन कराया है, वह आधारहीन है और आचार संहिता का सीधा-सीधा उल्लंघन है। उन्होंने कहा कि यह स्पष्ट रूप से कांग्रेस के विरुद्ध द्वेषपूर्ण, अप्रमाणिक एवं भ्रम पैदा करने की कोशिश है। चोपड़ा ने कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि चुनाव आयोग ने भी सर्वोच्च न्यायालय की अनदेखी कर पहली ही दृष्टि में इसे मंजूरी दे दी। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने यह गैरकानूनी काम किया है, उनके विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जानी चाहिए। चोपड़ा व अजय माकन ने चुनाव आयोग से मांग की कि शीघ्र ही भाजपा एवं इसके लिए जिम्मेदार दोषी भाजपा नेताओं के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए। उन्होंने बताया कि उनकी आपतियों को चुनाव आयोग ने ध्यान से सुना और शीघ्र कार्रवाई का आश्वासन भी दिया।

सुभाष चोपड़ा ने कहा कि भाजपा नेता अमित शाह सहित कई नेता भड़काऊ भाषा का प्रयोग कर रहे हैं, क्योंकि वे संभावित हार से बौखलाए हुए हैं। उन्होंने कहा कि देश और दिल्ली में कांग्रेस व धर्मनिरपेक्ष लोग दिल्ली नागरिक संशोधन विधेयक का विरोध कर रहे हैं तथा शाहीन बाग में आंदोलन करती महिलाओं एवं युवाओं का समर्थन कर रहे हैं, उससे पूरी दिल्ली में भाजपा के विरुद्ध नाराजगी पैदा हो रही है। इससे घबराकर भाजपा ओछी राजनीति पर आ गई है। सुभाष चोपड़ा और माकन ने कहा कि भाजपा के इन हथकंडों से कांग्रेस की लोकप्रियता प्रभावित नहीं होगी और बहुमत के साथ सरकार बनाएगी।

जीतेगा भारत हारेगा कोरोन

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस