नई दिल्ली, पीटीआइ। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सोमवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर 'भारत को तोड़ने की इच्छा रखने वालों का समर्थन करने' का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि  आम आदमी पार्टी सरकार पूर्व जेएनएसयू अध्यक्ष कन्हैया कुमार और अन्य पर राजद्रोह पर मुकदमा चलाने की अनुमति नहीं दे रही है। उन्होंने इस दौरान सवाल किया कि केजरीवाल बताएं कि वह क्या वोट बैंक के नुकसान से बचने लिए देश विरोधी लोगों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।  

नड्डा ने ट्वीट करके कहा,'कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अन्य भारत-विरोधी ताकतों ने जेएनयू में देशद्रोही नारे लगाए। वे भारत की संप्रभुता का उल्लंघन करने की धमकी दे रहे थे। कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने इस मामले की जांच की और जनवरी 2019 में आरोप पत्र दाखिल करने के लिए तैयार हुए। उन्होंने (पुलिस) केजरीवाल से इस 'टुकडे टुकडे' गिरोह के खिलाफ मुकदमा चलाने की अनुमति मांगी लेकिन एक साल बाद, कल तक कोई अनुमति नहीं दी गई।'

केजरीवाल उन लोगों का समर्थन क्यों कर रहा है जो भारत को तोड़ना चाहते हैं? 

नड्डा ने ट्वीट करके यह भी कहा 'केजरीवाल को दिल्ली को बताना चाहिए कि वह उन लोगों का समर्थन क्यों कर रहा है जो भारत को तोड़ना चाहते हैं? क्या इसलिए कि इन देशद्रोहियों के खिलाफ कार्रवाई से उनके वोट बैंक को नुकसान होगा?'

भाजपा अक्सर उठा रही मुद्दा

दिल्ली में 8 फरवरी को विधानसभा चुनाव होनी है। भाजपा अपनी चुनाव अभियान में अक्सर यह मद्दा उठाती रही है कि आप सरकार जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में देशद्रोही नारे लगाने के मामले में अभियुक्तों के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिए दिल्ली पुलिस को अनुमति नहीं दे रही है।

क्या है मामला

बता दें कि 14 जनवरी को, पुलिस ने कन्हैया कुमार और जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य सहित अन्य के खिलाफ अदालत में आरोप पत्र दायर किया था। इसमें कहा गया कि 9 फरवरी 2016 को एक कार्यक्रम के दौरान वे एक जुलूस का नेतृत्व कर रहे थे और इन्होंने देश विरोधी नारों का समर्थन किया था। दिल्ली की एक अदालत ने पुलिस को 19 फरवरी तक अपेक्षित अनुमति प्राप्त करने का निर्देश दिया है।

 

Posted By: Tanisk

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस