मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

रायपुर, नईदुनिया, राज्य ब्यूरो। छत्तीसगढ़ में स्पष्ट बहुमत की सरकार आने के बाद अब कांग्रेस का राज्यसभा में भी दबदबा बढ़ेगा। प्रदेश में राज्यसभा की पांच सीट में से हमेशा तीन सीट भाजपा के पाले में रहती थी। अब संख्या बल के आधार पर चार सीट कांग्रेस के पाले में आ जाएगी। यही नहीं, जकांछ और बसपा के विधायकों का समर्थन मिलने की स्थिति में पांच की पांचों राज्यसभा सीट कांग्रेस के खाते में जा सकती है।

राज्य गठन के बाद पहली बार ऐसा होगा कि कांग्रेस के चार से पांच राज्यसभा सदस्य चुने जाएंगे। प्रदेश में राज्यसभा सदस्य मोतीलाल वोरा व भाजपा के रणविजय सिंह जूदेव का कार्यकाल पूरा हो रहा है। ऐसे में अब राज्यसभा के लिए भी लाबिंग शुरू हो जाएगी।

विधानसभा सचिवालय के आला अधिकारियों ने बताया कि राज्यसभा का कार्यकाल पूरा होने पर प्रदेश में दो-दो सीट का चुनाव एक साथ होता है। एक सीट के लिए 45 विधायकों के मत की जरूरत होती है। संख्या बल के आधार पर भाजपा के सिर्फ 15 विधायक हैं। ऐसे में पहली प्राथमिकता और दूसरी वरियता के मत को जोड़ने पर भी भाजपा के राज्यसभा सदस्य बनने की स्थिति में नहीं पहुंच पा रहे हैं। अभी भाजपा से राज्यसभा में सरोज पांडेय, रामविचार नेताम और रणविजय सिंह जूदेव हैं। वहीं कांग्रेस से मोतीलाल वोरा और छाया वर्मा है। मोतीलाल वोरा और रणविजय सिंह जूदेव का कार्यकाल पूरा होने वाला है। ऐसे में दो सीट के लिए दावेदारों ने जोर आजमाइश शुरू कर दी है।

Posted By: Rahul.vavikar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप