रायपुर। छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव का परिणाम आने से पहले कांग्रेस और भाजपा के बीच सोशल मीडिया पर जंग चल रही है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल के ट्वीट पर भाजपा आक्रामक हो गई है।

भूपेश ने ट्वीट किया कि रायपुर कलेक्टर सहित दो कलेक्टर और इनकम टैक्स के एक अधिकारी सहित सात-आठ अधिकारी मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के मौलश्री विहार स्थित निजी बंगले पर चर्चा करने पहुंचे थे। मतगणना के चार दिन पहले मुख्यमंत्री के गैर आधिकारिक निवास पर हुई इस बैठक में क्या षड्यंत्र रचा गया। भूपेश के ट्वीट के बाद भाजपा ने लगातार तीन ट्वीट किए और कांग्रेस को कठघरे में खड़ा करने की कोशिश की।

भाजपा ने ट्वीट किया कि लगता है मुंगेरीलाल की तरह जीत का सपना देखने वाले भूपेश बघेल की नींद टूट गई है और हकीकत नजर आने लगी है। तभी तो बिना सिर पैर के आरोप लगा रहे हैं, जिससे हार का ठीकरा उन पर फोड़ा जा सके। ये बौखलाहट, घबराहट बता रही है कि 11 दिसंबर को कांग्रेस का सूपड़ा साफ होने वाला है।

वहीं, एक और ट्वीट में लिखा कि हार के डर से कांग्रेसियों की क्या हालत हो गई है। न चुनाव आयोग पर भरोसा। न अधिकारियों पर भरोसा, न पुलिस, न जवानों पर भरोसा, न इवीएम पर भरोसा, न ही देश के लोकतंत्र पर भरोसा। इनके अविश्वास को देखकर लगता है कि कांग्रेसी इवीएम पीसीसी में रखकर गांधी परिवार से काउंटिंग कराना चाहते हैं।

एक अन्य ट्वीट में भाजपा ने कहा, हार की बौखलाहट में कांग्रेसियों की मतिभ्रम हो गई है। मशीन और तकनीक की सामान्य समझ भी इन्हें नहीं रही। ख्याली ढोल पीटने वाले इनके नेता बौद्धिक शून्यता के शिकार हैं। ऊपर से इस फिराक में भी रहते हैं कि कहीं जुगाड़ से जीत हासिल हो जाए। क्या बेशर्मी है!

 

Posted By: Hemant Upadhyay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस