रायपुर, नईदुनिया, राज्य ब्यूरो। छत्तीसगढ़ में पहली बार जकांछ से गठबंधन कर चुनावी मैदान में उतर रही बहुजन समाज पार्टी ने अब अपने कोटे की सीटों पर उम्मीदवार चयन करने का पैमाने में बदलाव किया है। एक ओर जहां सामान्य सीटों में मजबूत उम्मीदवार आयातित करने की योजना पर कार्य हो रहा है वहीं आरक्षित सीटों पर जातीय अंकगणित के मुताबिक प्रत्याशियों की स्क्रूटनी हो रही है। बहुजन समाज पार्टी को गठबंधन में मिली सीटों में सर्वाधिक सामान्य श्रेणी की 16 हैं, जिसमें कुछ दिग्गज नेताओं की भी शामिल है। बसपा के सामने इन सीटों पर दमदार उम्मीदवार देने की चुनौती है।

सूत्रों की मानें तो ऐसे उम्मीदवार तलाशे जा रहे हैं जिनका स्वयं का अपना कुछ जनाधार भी हो और वे पार्टी को भी मजबूती दे सकें। देखना रोचक होगा कि बसपा इन सीटों पर कैसे उम्मीदवार मैदान में उतारती है। उम्मीद है कि अन्य राजनीतिक दलों के असंतुष्ट नेताओं को भी मौका मिल सकता है। बसपा के पास सामान्य सीटों में रायपुर पश्चिम, रायपुर दक्षिण, अंबिकापुर, चंद्रपुर, भिलाई नगर जैसी सीटें भी हैं जो वर्तमान में भाजपा और कांग्रेस के दिग्गजों के पास है। ऐसे में राजेश मूणत, बृजमोहन अग्रवाल, प्रेमप्रकाश सिंह, युद्धवीर सिंह जूदेव व टीएस सिंह देव के सामने उम्मीदवार देने में बसपा भी फूंक-फूंक कर कदम रख रही है।

उधर दूसरी तरह बसपा आरक्षित श्रेणी की 19 सीटों पर बसपा अब जातीय आधार पर उम्मीदवारों की स्क्रूटनी कर रही है। प्रत्येक विधानसभा सीट पर वोटरों की संख्या को देखकर उम्मीदवार तलाशे जा रहे हैं। पार्टी ने आरक्षित सीटों पर पार्टी के मूल कैडर को प्राथमिकता देने का निर्णय लिया है। पार्टी इस बार जकांछ के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है ऐसे में वह प्रत्येक सीट पर जिताऊ उम्मीदवार देना चाहती है। बसपा के प्रदेश प्रभारी एमएल भारती का कहना है कि उम्मीदवारों के चयन की प्रक्रिया अंतिम चरण में है शीघ्र ही सूची जारी कर दी जाएगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021